• Breaking News

    LPG गैस सिलेंडर का एक्सपायरी भी होता है, घर में ऐसे जांचे

    LPG gas cylinder also has expiry, check in at home

    मेरे घर परसों ही वेंडर एलपीजी का गैस सलेंडर देकर गया. जब मैंने देखा तो तुरंत ही अपने गैस डीलर को फोन किया. उनको बताया कि आपके वेंडर ने हमें एक्सपायरी स्लेंडर डिलीवर कर दिया है. कृपया उनको बोल कर जितनी जल्दी हो सके बदलवा दें. उन्होंने कहा की ऐसा तो नहीं होना चाहिए. मगर हो सकता है गलती से चला गया होगा. इसके बाद थोड़ी देर में ही वेंडर आकर दूसरा स्लेंडर दे कर एक्सपायरी वाला स्लेंडर ले गया. अब आप सोच रहे होंगे कि क्या स्लेंडर भी एक्सपायर होता है? जी हां, हर चीज की एक निश्चित आयु होती है. जो कि अपना समय पूरा करने के बाद बेकार हो जाती है. इस बीच कई बार उनको सर्विस की भी जरुरत पड़ती है. ठीक उसकी प्रकार गैस स्लेंडर के साथ भी होता है.
     

    आज हर घर में रसोई स्लेंडर यूज किया जाने लगा है. हम सभी को पता है इसके अंदर जो एलजीपी गैस है वह अत्यधिक ज्वलनशील है. ऐसे में सावधानी रखनी की ज्यादा जरुरत है. हर किसी ने स्लेंडर देखी होगी मगर क्या आपको यह पता है कि इस सलेंडर का भी कोई एक्सपाइरी डेट होता है? जी हां और इसको आप घर बैठे बिना किसी उपकरण के जांच सकते हैं. आज हम आपको इसको जांचने की विधि बताने जा रहें हैं. इसके बाद आप कह उठेंगे कि अरे यह कितना आसान था.
     

    आपने देखा होगा कि स्लेंडर के ऊपर गोल हैंडल तीन पट्टी से जुडी होती है. इस तीन पट्टी में से एक पट्टी पर अंग्रेजी के अक्षरों में  A-17, B-25, C-20, D-23 ..इत्यादि इस तरह के कुछ डिजिट अंकित रहते हैं. इसी कोड में स्लेंडर का एक्सपायरी डेट छुपा होता है. अब इसको विस्तार से समझते हैं. यहां A का मतलब मार्च (फर्स्ट क्वाटर) , B का मतलब जून (सेकेंड क्वाटर), C का मतलब सितम्बर (थर्ड क्वाटर)  और D का मतलब दिसम्बर (फोर्थ क्वाटर)  होता है. इसके बाद जो अंक है वह वर्ष को दर्शाता है. अब मान लें कि आपके स्लेंडर पर (A-17) लिखा है इसका मतलब हुआ कि आपका स्लेंडर मार्च 2017 में एक्सपायर हो चूका है. इसके बाद इसकी जांच की जरुरत है. यह काम आपका नहीं बल्कि आपके डीलर का है. अगर आपके पास इस तरह का स्लेंडर है तो तुरंत ही अपने डीलर को सूचित कर जमा करवायें.

    उम्मीद है यह जानकारी आप सभी के लिए उपयोगी साबित होगी. मगर आप केवल इस जानकारी को अपने तक सीमित रखते हैं तो इतना मेहनत से लिखने का कोई फायदा नहीं होगा. बल्कि हम तो उम्मीद करते हैं कि आप इसको आपने आसपास के लोगों तक पहुचांयेंगे. जिससे लोगों में जागरूकता बढ़ें. धन्यबाद.

    यह भी पढ़ें-


    1 comment:

    अपना कमेंट लिखें

    loading...