• Breaking News

    यह गलती की तो Train Accident के समय, नही मिलेगा Compensation का 18 लाख, जाने क्या

    Train Accident Compensation

    हम सभी अक्सर रेलयात्रा करते हैं. हमें तो आये दिन ट्रेन दुर्घटनाओं के कारण ट्रेन में बैठने से पहले काफी डर लगता है. मगर क्या आप जानते हैं कि रेलयात्रा के दौरान अगर आप या कोई अन्य कोई भी दुर्घटना का शिकार हो जाए तो आपका बीमा होता है? आप अपना बिना क्लेम कर सकते है? क्या आप जानते हैं कि इसका लाभ आप या आपके परिवार के लोग कैसे ले सकते हैं? क्या आपको पता है कि कितना पैसा मिलेगा. आज हम इसके बारे में ही बताने जा रहे हैं. उम्मीद है इसको पूरा पढ़ेंगे.

    यह गलती की तो Train Accident के समय नहीं मिलेगा Compensation का 18 लाख

    आप जैसे ही रेल में सफर करने के लिए टिकट कटवाते हैं वैसे ही आपका 10 लाख रूपये का बीमा हो जाता है. बिना टिकट यात्रा करने वाले यात्रियों पर यह लागू नहीं होता है. इसके आलावा इस बीमा के लिए हम यात्री को कोई भी प्रीमियम की राशि का भुगतान नहीं करना होता हैं.

    हालांकि रेलवे ने शुरू में इस योजना पर 92 पैसे का प्रीमियम रखा गया था, मगर बाद में इसको भी हटा लिया गया. इसमें बीमा के तहत मामूली रूप से घायल यात्री को 2 लाख रूपये, अपाहिज होने पर 7.5 लाख और मृतक के परिजन को 10 लाख रूपये मिलेंगे. इसके आलावा मृत यात्री का शव ले जाने के लिए अतिरिक्त 10 हजार रूपये दिए जाते हैं. 

    इसके आलावा जानकारी के लिए बता दूं कि सरकार ने रेल दुर्घटना में मृत यात्री का मुआवजा की राशि दोगुनी कर दी है. पहले यह राशि 4 लाख रूपये थी, जिसको अब बढ़ा कर 8 लाख रूपये कर दी गई है. इसके आलावा बीमा की राशि अलग से मिलेगी. हिंदुस्तान के रिपोर्ट के अनुसार पिछले एक साल में रेलवे पीड़ित परिवारों को 400 करोड़ रुपये बतौर मुआवजा (Compensation) दे चुकी है. जबकि पूर्व में यह राशि 200 करोड़ रुपये थी.

    मिडिया रिपोर्ट की माने तो रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पूर्ण रूप से दिव्यांग होने यानि, दोनों हाथ कट जाना अथवा दोनों पैर कट जाना या नेत्रहीन होने पर रेलवे आठ लाख रुपये का मुआवजा देगी. इसके अलावा ट्रेन में चढ़ते वक्त प्लेटफार्म पर गिरकर मौत होने पर पूरा मुआवजा दिया जाएगा. अधिकारी ने बताया कि रेलवे ट्रैक पार करते वक्त अथवा ट्रेन से गिरकर मौत होने पर मृतक के परिजन मुआवजे के हकदार होंगे. बशर्ते उनके पर रेलवे का वैध टिकट हो.

    उन्होंने यह भी बताया कि एक जनवरी 2017 से मार्च 2018 के बीच रेलवे बतौर मुआवजा 400 करोड़ रुपये वितरित कर चुका है. मुआवजे की राशि बढ़ाने संबंधी आदेश एक जनवरी 2017 से लागू हो गए हैं. उन्होंने बताया कि रेल टिकट लेकर यात्रा करने वाले सभी यात्रियों का 10 लाख का बीमा होता है. हादसे में मृत्यु होने पर बीमा कंपनी यह राशि अदा करती है.

    इसके बारे में हम तो कहेंगे कि अगर आप गलती से जेनरल बोगी में जेनरल टिकट से यात्रा कर रहें हो तो यात्रा से पहले अपने टिकट का फोटो खींचकर अपने परिजन को व्हाट्सप्प कर दें. ताकि कोई दुखद घटना के बाद कोई असुविधा न हो. रेलवे का कोई ठीक नहीं की कल कह दें कि वो तो सफर ही नहीं कर रहा था और पूछ दे कि आपके पास क्या सबूत है. इस जानकारी की सबसे ज्यादा जरुरत कम-पढ़े लिखे लोगों, मजदूरों को है. उम्मीद करूंगा कि इस महत्वपूर्ण जानकारी को उनतक पहुंचने के लिए शेयर करेंगे. धन्यबाद.

    No comments:

    Post a Comment

    अपना कमेंट लिखें

    Most Popular Posts

    loading...

    Fashion

    Contact Me

    Name

    Email *

    Message *