IRCTC पर बिना ट्रांसफर लेटर दिए नोयडा भेजे जाने के लिए शिकायत दर्ज

दिल्ली ऑफिस एंड इस्टैब्लिशमेंट एम्पॉलईस यूनियन (CITU) ने IRCTC (इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कर्पोरेशन लिमिटेड) के Management पर उनके युनियन मेम्बर्स को नौकरी से निकालने की धमकी देने और बिना कोई Transfer Letter इस्सू किये नोयडा भेजे जाने के विरोध में RLC(C) Office  के यहा Complaint दर्ज करवाई है.

IRCTC पर यूनियन के द्वारा शिकायत दर्ज

आर.एल.सी. ऑफिस तुरंत ही अनफेअर लेबर प्रैक्टिस के तहत  नोटिस  CMD, IRCTC को इशू करते हुए 25.08.2014 को उपस्थित होने को निर्देश दिया था. मगर उस दिन नही IRCTC Management के absent होने पर दुबारा 11-09-2014 का Notice जारी किया गया हैं.

आपकी जानकारी के लिये बता दुं कि माननीय दिल्ली हाई कोर्ट नें ठेका वर्कर के समानता के अधिकार ‘Equal Pay for Equal Work’ के लिये जनहित याचिका संख्या WP(C) 2175/2014 में भारत सरकार, सी.एल.सी.(सी.) लेबर मिनिस्ट्री, चेयरमैन, रेलवे बोर्ड, के साथ-2 एम.डी. आईआरसीटीसी एवं शोमुक (ठेकेदार) को नोटिस 02-04-2014 को इशू किया गया था.

जिसके बाद ही प्रतिशोध में IRCTC, Mangment  ने ठेका वर्कर को प्रताड़ित करना शुरु कर दिया है. मैनेजमेंट दिन-प्रतिदिन वर्करस को यूनियन ज्वाईन करने वाले को नौकरी से निकाल देने तक कि धमकी देने लगे है. जबकि आजाद भारत के सभी वर्कर का यूनियन ज्वाईन करना मौलिक अधिकार है.

ठेका वर्कर को पक्का करने के लिये केस लगाया

इसीलिये आईआरसीटीसी मैनेजमेंट के खिलाफ दिल्ली ऑफिस एंड इस्टैब्लिशमेंट एम्पॉलईस यूनियन ने ने शिकायत दर्ज करवाया गया है और अगर ये अपनी हरकत से बाज नही आये तो इस मुद्दा को आई.एल.ओ. (इंटर्नेशनल लेबोर ओर्गनाइजेशन) तक ले जाया जा सकता है.आपको बता दें कि दिल्ली ऑफिस एंड इस्टैब्लिशमेंट एम्पॉलईस यूनियन सीआईटीयू ने ठेका वर्कर को पक्का करने के लिये केस लगाया है.

इस दौरान किसी भी यूनियन मेम्बर को धमकाना, परेशान करना या नौकरी से निकालने की धमकी देना आदि अनफेअर लेबर प्रैक्टिस में आता हैं. इसके तहत एम्प्लोयर को जेल का प्राबधान हैं. अब देखना है कि आई.आर.सी.टी.सी. अपने किस स्टाफ को फंसाता है. 

यह भी पढ़िए-
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment