IRCTC Worker ने अपना जमीर कितने मे आईआरसीटीसी प्रबंधक को बेचा?

Blog – अभी हम सभी कर्मचारियों (IRCTC Worker) ने एकता के साथ जोरदार आंदोलन करके कुछ मांग को देने के लिए आईआरसीटीसी को झुका दिया, जैसे कि – पीने का साफ पानी, चाय, कस्टमर केयर मे नया हेडसेट,महिला कर्मचारियों के बाथरुम जाने पर रोक, फ़र्स्ट एड इत्यादि, मगर ऐन टाईम पर दो लोग जो प्रबंधन की बहकावे में आकर हमारी मुखवीरी कर 6 कर्मचारियों के जीविका पर हमला करवाने के साथ-साथ अपने स्वार्थ सिद्दी के लिए आपके अधिकारो को भी छीना है. आपके पास आकर पेपर साईन करवाये कि आपका यूनियन के आंदोलन/डिमांड से कोई लेना देना नही है और न ही आप समर्थन करते हैं.

आपको अच्छी तरह पता है कि वह यूनियन की डीमांड नही बल्कि आपका (IRCTC Worker) डीमांड था. जिसमे आपका दो साल से पेंडिग इन्क्रेमेन्ट आदि भी था. ऐसा लिखकर ठगकर, डरा धमकाकर कुछ लोगो से साईन करवाकर आगे मिलने वाली सारी सुविधा से वंचित कर दिया साथ ही साथ आपके लिए धरने पर बैठे लोगो के बारे मे प्रबंधन को लिखकर दिया कि बाहर बैठे लोग गुंडे है. जो कि आईआरसीटीसी पर केश करने के नाम पर रंगदारी वसुलते है और नही देने पर परमानेन्ट और आउटसोर्स को देखकर कमेंट करते, गालियाँ देते और नारा लगाते है.
स्वार्थी लोग ये भी भूल गये कि धरना पर बैठे 6 लोग जो उनके अधिकार के लिए भी लड़ रहे थे और जिसमे 2 महिलायें और एक बच्चा भी था. आपसब से आग्रह है कि निम्न सवाल जरुर पुछे इनलोगो से कि आपका हक छीन कर (इन्क्रेमेन्ट रोक कर) क्या मिला? इस काम के लिए अपना जमीर कितने मे आईआरसीटीसी प्रबंधक को बेचा ? हमारा हक मार कर अब खुश तो हो न ?

यह भी पढ़ें-

Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment