• Breaking News

    एसबीआई के मिनिमम बैलेंस पेनाल्टी चार्ज से कैसे बचें


    How to Avoid Minimum Balance Penalty Charge of SBI

    हमारी हमेशा कोशिश होती है कि आपको लाभदायक जानकारी दी जाए. जिसको पढ़ कर आप लाभ उठा सकें. हमारे जान-पहचान का एक स्टूडेंट है. आये दिन उसको प्रतियोगिता परीक्षा के लिए फार्म भरना होता है. जिसके लिए उसने एसबीआई में अपना सेविंग अकाउंट खुलवा रखा है. किसी भी स्टूडेंट की कोई मासिक कमाई नहीं होती है. मगर एसबीआई बैंक ने अपने नए नियम के अनुसार पिछले महीने पेनल्टी के नाम पर उसका पूरा खाता ही खाली कर दिया. आपको यकीन न हो तो उसके बैंक खाते का स्क्रीन शॉट नीचे  देख सकते है.






    अगर आपका बैंक खाता एसबीआई में है तो यह जानकारी आपके लिए लाभदायक है. अभी हाल ही में प्राइवेट बैंक के नक़्शे कदम पर चलते हुए एसबीआई बैंक ने भी सेविंग यानि बचत खाते पर मिनिमम बैलेंस नहीं मेंटेन करने पर पेनल्टी चार्ज कर रहा है.

    SBI  का मिनिमम बैलेंस Penalty Charge



    इसमें जिस तरह से पेनल्टी के नाम पर पैसे काटे गए है. उससे तो यही लगता है कि हमने एसबीआई से कर्जा ले रखा है और वह उसकी भरपाई कर रहा है. इस खाते में अभी तक एसबीआई ने जितने ब्याज नहीं दिए होंगे उससे कहीं ज्यादा पेनल्टी लगा दी है. ऐसे ही 20- 88 रूपये काट-काट कर मिनिमम बैलेंस मेंटेनन्स के नाम पर एसबीआई ने 235 करोड़ रूपये कि कमाई कर ली है. काफी हो हंगामे के बाद बैंक ने मेट्रो शहरों के सेविंग खातों में मिनिमम मंथली बैलेंस की लिमिट को 5000 रुपए से घटाकर 3000 रुपए करने की घोषणा की है. अब मुद्दे कि बात यह है कि इससे बचा कैसे बचा जाए. अब बैंक का खाता तो बंद करा नहीं सकते. मगर दूसरा कोई आसान सा विकल्प ढूंढना होगा.


    एसबीआई के अनुसार अगर आप अपना खाता को सेविंग खाता से बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट में कन्वर्ट करवा लेते है तो ऐसे में आपके अकाउंट में जीरो बैलेंस होने पर भी पेनल्‍टी नहीं देनी होगी. आप अपने सेविंग अकाउंट को बिना कोई शुल्क दिए बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट में कन्‍वर्ट करा सकते हैं. इसके लिए अपने ब्रांच जाकर आपने खाता कन्वर्ट करने के लिए रिक्वेस्ट डालना होगा. एक जानकारी के मुताबिक अभी एसबीआई में अभी लगभग 40 करोड़ सेविंग खाता धारक हैं. जिसमे लगभग इनमें से 13 करोड़ बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट हैं.


    अब आपका सवाल यह होगा कि बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट में कन्वर्ट करवाने से क्या बाद में कोई समस्या तो नहीं आएगी? 

    केंद्र सरकार व रिजर्व बैंक ने सभी आम जन को बैंकिंग सेवा से जोड़ने के लिए मूल बचत बैंक जमा खाता योजना (बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट स्कीम) को कुछ साल पहले लांच किया था. सभी गरीबों तक बैंकिंग सेवा पहुँचाने के लिए नो फ्रिल यानि जीरो बैलेंस खाता खोले गए हैं, उन्हें ही मूल बचत बैंक खाता योजना  (बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट स्कीम) के तहत रखा गया है. इस स्कीम में ग्राहकों को न्यूनतम बैंकिंग सेवा देने की गारंटी है. इस खाते में एक बार में 50 हजार रुपये से ज्यादा की राशि जमा नहीं होनी चाहिए. एक माह में अधिकतम दस हजार रुपये ही इस खाते से किसी दूसरे में ट्रांसफर किए जा सकते हैं.


    मजदूर वर्ग उनके लिए संभव नहीं होता कि वो लोग एक निर्धारित राशी को बैंक खाते में बनाकर रखे. उम्मीद है कि इस जानकारी से आप लाभ उठा पायेंगे. इसके आगे हम विस्तार से बतायेंगे कि बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट होता क्या है?  अगले पोस्ट का थोड़ा सा इंतजार करें. अगर कोई सवाल हो तो कमेटं बॉक्स में लिखकर जरूर पूछ सकते हैं. 

    यह भी पढ़ें-

    No comments:

    Post a Comment

    अपना कमेंट लिखें

    loading...