• Breaking News

    पटना जंक्शन पर गैंगमैन की पिटाई से भड़के कर्मचारी, हंगामे के बाद सिपाही लाईन हाजिर

    The gangman gets beaten up on the Patna junction

    Blog: शनिवार को पटना जंक्शन पर जम कर हंगामा हुआ. हंगमा की वजह जानकर हैरानी नहीं होगी. आये दिन रेल में या स्टेशन पर यात्रियों के साथ आरपीएफ और टीटीई के बदसलूकी की खबर देखने और सुनने को मिल ही जाया करती है. यह भी ठीक उसी तरह की घटना है, मगर बदसलूकी और मारपीट करने वाले को मंहगा पर गया. मंहगा भी ऐसा की तुरंत कार्रवाई करते हुए साहब को लाईन हाजिर कर दिया गया. तब कहीं जाकर मामला शांत हुआ.

    पटना जंक्शन के गैंगमैन यूनिट संख्या-10 के मुकेश कुमार शनिवार को 10:30 बजे लोको कॉलोनी स्थित स्टोर से सामान लेकर प्लेटफार्म संख्या 2 पर जा रहा था. इसी दौरान प्लेटफार्म संख्या 7 के समीप आरपीएफ सिपाही गोपाल कुमार ने मुकेश कुमार को बुलाया. जिसके बाद मुकेश कुमार ने सामान रखकर आने की बात कही तो इससे नाराज होकर आरपीएफ सिपाही गोपाल कुमार ने उसकी  पिटाई कर दी और अपने बैरक में बंद कर दिया. जिसकी सुचना मिलते ही उनके अन्य साथियों ने हंगामा शुरू कर दिया.



     

    अपनी एकता का परिचय देते हुए अपने साथी कर्मचारी के साथ हुए अन्याय के खिलाफ धीरे-धीरे सैंकड़ो गैंगमैन कर्मचारी अपना-अपना काम-धाम छोड़कर विरोध प्रदर्शन करने लगें. ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी यूनियन के जफ़र हसन, सुनील कुमार सिंह, अजय मणि तिवारी आदि कर्मचारी नेताओं ने मामले को आड़े हाथों लेते हुए दोषी सिपाही पर तुरंत कार्रवाई की मांग करने लगें. कर्मचारियों ने आरोपियों पर कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन कर रेल ट्रैक को बाधित करने की बात कह दी. इस विरोध को देखकर रेल प्रशासन के पसीने छूट गए और तुरंत कार्रवाई करते हुए आरोपी सिपाही को लाईन हाजिर कर दिया. जिसके बाद ईलाज के लिए मुकेश कुमार को अस्पताल ले जाया गया.

    कर्मचारी नेता अजय मणि तिवारी ने शोसल मिडिया में इस विरोध प्रदर्शन की एक वीडियो अपलोड किया है. जिसमें अपने साथी के पिटाई की खबर से ट्रैकमैन व अन्य कर्मचारियों का गुस्सा साफ-साफ नजर आ रहा है. सैकड़ों की तादात में कर्मचारीगण घटना स्थल की तरफ दौड़ते दिखाई दे रहे है. जिसके बाद पुलिस के खिलाफ नारेबाजी भी की जा रही है.


    कर्मचारी नेता अजय मणि  तिवारी से प्रेस रिलीज की मांग की तो उन्होंने क्या कहा? यह जान कर चौंक जायेंगे. उन्होंने सीधा कहा कि "रेल यूनियन वाले मीडिया पर उतना विश्वास नहीं रखते, कर्मचारियों में हम ज्यादा विश्वास पैदा करते है, मीडिया वाले बिना........के स्थान नही देते इसलिए उसपर हम ध्यान नही देते"..जिसके बाद जब हमने उनको कहा कि "बात आपकी सही है. मगर कर्मचारियों की संघर्ष के बाद जीत की कहानी हर कर्मचारी तक पहुंचना चाहिए, जिससे बाकी अन्य साथियों को प्रोत्साहन मिल सके. अब देखिए न छन भर में पटना से दिल्ली तक जानकारी पहुंच गई और हमारे ब्लॉग "वर्कर वॉइस" के माध्यम से पूरे देश के कर्मचारियों तक पहुंच जायेगा." जिसके बाद उन्होंने उपरोक्त जानकारी शेयर की. इस बात का समर्थन हम भी करते है कि मिडिया कभी भी कर्मचारी का पक्ष नहीं दिखती है. हमारे ब्लॉग का उद्देश्य भी ऐसी कमी को पूरा करने की कोशिश मात्र है.

    प्रभात खबर के अनुसार पटना जंक्शन पर कार्यरत गैंगमैन कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि आरपीएफ कर्मी सब्जी बेचने वालों से खुलेआम पैसे कि वसूली करते है और मुकेश को भी सब्जी वाला समझ कर पिट दिया था. इस तरह से यूनियन के नेताओं के सही दिशा निर्देश और कर्मचारियों के एकता के बदौलत चंद घंटों में प्रबंधन को झुकना पड़ा.

    No comments:

    Post a Comment

    अपना कमेंट लिखें

    loading...