दिल्ली कलस्टर बसकर्मी बढ़ा न्यूनतम वेतन लागू करने की मांग के लिए हड़ताल पर

केजरीवाल सरकार ने अपने चुनावी वादे में ठेका वर्कर को पक्का करने की बात की थी. मगर शायद ही किसी विभाग के कर्मचारी पक्के हुए होंगे. जिसका विरोध आपको अलग-अलग विभागों में देखने को मिल जायेंगे. सरकार ने कर्मचारियों के विरोध को कम करने के लिए न्यूनतम वेतन 39 % बढ़ने का नोटिफिकेशन जरूर जारी किया. मगर एक वर्ष पूरा होने को है मगर पूर्ण रूप से लागू नहीं हो पाया है. अब दिल्ली कलस्टर बसकर्मी बढ़ा न्यूनतम वेतन लागू करने की मांग के लिए हड़ताल पर चले गए.

दिल्ली कलस्टर बसकर्मी नया न्यूनतम वेतन लागू करने की मांग

जब बृहस्पतिवार को बस का इन्तजार करते हुए काफी देर तक बस नहीं आई. इसके साथ ही देखा कि सड़क पर ज्यादातर हरी व् लाल बस ही नजर आ रही है थी और वो भी भीड़ से भड़ी. अंत में हार कर ऑटो लेना पड़ा. कल भी बसों का वही हाल था. जिसके बाद पता चला कि दिल्ली में न्यूनतम वेतन में 37 फीसद की बढ़ोतरी की मांग के लिए क्लस्टर बस के कर्मचारी बृहस्पतिवार से ही हड़ताल पर हैं.

5 हजार कर्मचारियों के हड़ताल पर

जागरण के खबर के अनुसार राज्य के लगभग 5 हजार कर्मचारियों के हड़ताल पर रहने कि सम्भावना है.  इस हड़ताल के बारे में वर्कर औद्योगिक कामगार विकास यूनियन के अनुसार दिल्ली सरकार द्वारा 3 मार्च 2017 को घोषित वेतन किसी को नहीं मिला. इस बढ़े वेतन को लेकर डिम्टस (दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमॉडल ट्रांजिट सिस्टम) प्रशासन से बात हुई लेकिन इसका कोई हल नहीं निकला.

जबकि इस मामले में डिम्टस कम्पनी (ठेकेदार) वाले कोर्ट भी गए, लेकिन कोर्ट ने कर्मचारियों के पक्ष में फैसला दिया. उन्होंने कहा कि कोर्ट के निर्देश के बाद दिल्ली सरकार व डिम्टस प्रशासन की ओर से अभी तक वेतन बढ़ाने की दिशा में कोई पहल नहीं हुई है. उनके चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो हड़ताल जारी रहेगी और अब प्रदर्शन और उग्र होगा.

यह भी पढ़ें-

Share this

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment