NTPC मोकामा में न्यूनतम वेतन नहीं मिलने से नाराज मजदूरों के प्रदर्शन पर फायरिंग

बिहार के बाढ़ जिले के मोकामा में स्थिति NTPC मोकामा के मजूदर न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने से खफा हो प्रदर्शन कर रहें हैं. प्रभात खबर के अनुसार मजदूरों का आरोप है कि मौके पर पहुंची पुलिस ने उनपर फायरिंग की है. जबकि इसके बारे में पुलिस ने फायरिंग से इंकार किया है. आज तड़के सुबह वहां काम करने वाले मजदूरों ने न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने और बकाये वेतन को लेकर कंपनी के गेट पर हंगामा शुरू कर दिया. हजारों की संख्या में पहुंचे मजदूरों ने मटेरियल गेट को जाम कर दिया और प्रदर्शन करने लगे. बताया जा रहा है कि अभी भी मजदूरों में गुस्सा है और वह लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं.

NTPC मोकामा में न्यूनतम वेतन नहीं

एनटीपीसी लिमिटेड (पूर्व नाम – राष्ट्रीय तापविद्युत निगम) भारत की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कम्पनी है. सन् 2016 में के लिए विश्‍व की 2000 सबसे बड़ी कंपनियों में एनटीपीसी का 400 वां स्‍थान है. मई, 2010 को एनटीपीसी यह प्रतिष्ठा प्राप्त करने वाली सम्मानित चार कंपनियों में से, एक महारत्न कंपनी बन गई.

मजदूरों का कहना है कि पुलिस ने फायरिंग की

NTPC कंपनी में काम करने वाले मजदूरों ने आरोप है कि भारत सरकार द्वारा तय की गई न्यूनतम मजदूरी भी उनको नहीं दी जा रही है. इसके अलावा एनटीपीसी में काम करने वाली कंपनियों ने पिछले 4 महीने  से मजदूरों को उनकी मजदूरी का भुगतान भी नहीं किया है. एनटीपीसी में बाहर की कई कंपनियां पेटी कांट्रेक्ट पर काम करती हैं. प्रदर्शन कर रहे मजदूरों ने आरोप लगाया है कि जब वे लोग प्रदर्शन कर  वेतन और मजदूरी मांग रहे थे तो पुलिस ने लाठीचार्ज किया है.

मजदूरों का कहना है कि पुलिस ने फायरिंग की है, जबकि पुलिस इस बात से इनकार कर रही है.वहीं दूसरी ओर मजदूरों की ओर से पुलिस पर पथराव करने की खबर आ रही है. पुलिस ने लाठीचार्ज और फायरिंग की बात से इनकार किया है. मजदूरों का कहना है कि उनका शोषण किया जा रहा है और वरीय अधिकारी उनकी बात को सुनते नहीं हैं. अंत में उन्होंने विरोध प्रदर्शन का सहारा लिया.

सेंट्रल गवर्नमेंट के कॉन्ट्रैक्ट वर्कर को कितना न्यूनतम वेतन मिलना चाहिए?

हमारे जानकारी के अनुसार Central Government India ने अप्रैल 2018 को मंहगाई भत्ते में 20-39 रुपया प्रतिदिन की वृद्धि की है. जिसके बाद अकुशल कर्मियों का Minimum Wages- 642/- अर्ध-कुशल कर्मियों के 494/- कुशल कर्मचारियों के लिये 520/- अत्यधिक कुशल यानि स्नातक  572/- मासिक वृद्धि हुई है. एक A कैटेगरी के शहर के लिए है.  इसके आलावा देश के अलग-अलग शहरों को A,B,C Zone में बांटा गया है. ऐसे में पटना का मोकामा C एरिया में आता है.
यह भी पढ़ें-
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment