प्राईवेट Job में हो रहे अत्याचार की सूचना, मोदी जी को देने हेतु प्रार्थना पत्र

Viral Post- पिछले कई महीने से व्हाट्सप्प और फेसबुक पर एक लेटर “प्राईवेट Job में हो रहे अत्याचार की सूचना” शेयर किया जा रहा है. जिसको पढने के बाद ऐसा लगता है कि किसी प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले वर्कर ने लिखा है. इस लेटर के साथ एक महिला का फोटो भी है. मगर हमने वह फोटो हटा दिया है.

प्राईवेट Job में हो रहे अत्याचार की सूचना

यह भी हो सकता है कि यह खुला खत उन्होंने ही लिखा हो या नहीं भी. इनका नाम या इस पत्र को लिखने वाले का नाम कहीं लिखा नहीं है. यह पत्र किसने लिखा मगर जो भी हो इसमें एक गरीब मजदुर का दर्द है. जो कि कम पैसे में 12 घंटे काम करने के बाद भी अपना परिवार भी नहीं पाल पा रहा है. वह इसके लिए मोदी जी से गुहार लगा रहा है.

जो भी पढता उसको आगे फॉरवर्ड जरूर करता

अब भले ही मोदी जी इस पुकार को सुने या अनसुनी कर दें. जो भी पढता उसको आगे फॉरवर्ड जरूर करता है. इसका मुख्य वजह यह है कि इस लेटर को पढने के बाद उसको लगता है कि यह तो “मेरी मन की बात” है. हमने भी जब पढ़ तो लगा कि अरे यह तो हम जिसके लिए लड़ रहे उसी चीज की मांग है, यानी “समान काम का सामान वेतन”. आप खुद ही पढ़िए और मजदुरहित में इसको शेयर जरूर करें.

Viral Post- प्राईवेट Job में हो रहे अत्याचार की सूचना मोदी जी को देने हेतु प्रार्थना पत्र

सेवा में,
नरेंद्र मोदी जी
माननीय प्रधानमंत्री,
भारत सरकार
विषय : प्राईवेट नौकरी में हो रहे अत्याचार की सूचना हेतु प्रार्थना पत्र.
महोदय,
सविनय निवेदन इस प्रकार है कि कोई भी प्राईवेट कंपनी, प्राइवेट स्कूल या कोई शॉप में जॉब पर हमें 6,000 से 8,000 हर महीने  देते हैं और हमसे 10 से 12 घण्टे काम लेते है  और वही सरकारी नौकरी के एक चपरासी को हर महीने 45,000 तक मिलते है और उसमे भी 8 घंटे ड्यूटी. हम तो एक कहते हैं कि 12 घंटे की जगह हमें भी 8 घंटे की ड्यूटी  दो.
माननीय प्रधान मंत्री जी आपसे अनुरोध है कि हमें कम से कम इतनी इनकम दो. जिसमें हमारे 2 बच्चे स्कूल मे पढ़ सकें. हम भी 2 टाइम अच्छे से खाना खा सके. परिवार में अगर कोई बीमार हो तो उसकी भी दवाई आ सके और हम भी 10 साल जॉब करने के बाद एक 100 गज का मकान ले सकें.
जो की एक सरकारी जॉब वाला चपरासी 5 साल मे  ले लेता है. अब महोदय आप ही बतायें कि 8,000 में ये सब कैसे हो सकता है. माननीय प्रधानमंत्री जी आपसे अनुरोध है कि जो प्राइवेट संस्थाओं के वर्कर हैं उन पर भी ध्यान दें. उनको 6,000 नहीं 20,000 से 24,000 तक मिले, ताकि की एक परिवार का गुजारा हो पाए.
आपकी अति कृपा होगी.
धन्यवाद,
आपका
गरीब नागरिक
कृपया इस पोस्ट को इतना शेयर करो प्रधानमंत्री जी तक पहुंच जाये. यह message कल तक TV पर आना चाहिए. जय हिंद जय भारत.
यह भी पढ़ें-
Share this

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

3 thoughts on “प्राईवेट Job में हो रहे अत्याचार की सूचना, मोदी जी को देने हेतु प्रार्थना पत्र”

  1. Sir/madam. Subject about graduity I worked 14 years in a restaurant know company sold to other company they removed old employees me suddenly there major surgery happen know how do I get my graduity kindly help in this matter

    Reply

Leave a Comment