CBSE वर्कर कोर्ट आदेश की अवहेलना के विरोध में भूख हड़ताल पर

नई दिल्ली: सीबीएसई जो कि 10वीं एवं 12वीं के छात्र-छात्रों की परीक्षा का आयोजन करती आई है का काम व जिम्मेदारी साल-दर-साल बढ़ती गई है. सीबीएसई आज ए.आई.पी.एम.टी., आई.ई.ई.ई., सी.टी.ई.टी., जे.ई.ई., नवोदय विधालय इत्यादि परीक्षाओं का आयोजन कर रही है. जिसमें लाखों की संख्या में परीक्षार्थी परिक्षाओं में बैठते हैं. CBSE वर्कर कोर्ट आदेश की अवहेलना के विरोध में भूख हड़ताल पर हैं.

CBSE वर्कर कोर्ट आदेश की अवहेलना

सभी जानते हैं कि सीबीएसई देश-विदेश में भी परीक्षा करवाती है. इस कारण से सीबीएसई का कार्यभार भी कई गुण बढ़ चुका है. परीक्षाओं के आयोजन सम्बंधी कार्य नियमित प्रकृति का है न की सिजनल. सीबीएसई बढ़ते कार्यभार को स्थायी कर्मचारियों की भर्ती न कर अधिकांश काम ठेके एवं दैनिक वेतन भोगियों की भर्ती कर करवा रही है. इसमें अधिकांश कर्मचारी कम्प्यूटर असिंस्टेंट, डाटा एंट्री ऑपरेटर, चर्तुथ श्रेणी के अलग-अलग कार्यो में संलग्न हैं.

इसमें वर्ष 2007, 2008 व उसके बाद 2010, 2011 में कर्मचारियों को सीबीएसई ने सीधे अनुबंध पर रखा. जिनकी संख्या 300 से अधिक है. सीबीएसई अगस्त 2014 में न्यू ग्रो सोल्यूशन प्रा. लिमिटेड ठेका एजेंसी का लाई और सभी डायरेक्ट भर्ती किए गए अनुबंधित कर्मचारियों को उसके मस्टर रोल पर दिखाया जाने लगा. ठेका एजेंसी कार्यरत कर्मचारियों को समय से वेतन नहीं देते थे. वेतन से पीएफ का काटा गया रूपया पीएफ विभाग में जमा नहीं किया जाता था.

जिसके खिलाफ कर्मचारी आफिस एंड इस्टेबलिसमेंट इम्प्लाइज यूनियन संबद्ध सीआईटीयू के तले संगठित हुए व श्रम विभाग व प्रोविंड फंड विभाग में शिकायत लगाई. तभी से प्रबंधन कर्मचारियों से रंजिश रखने लगे. प्रबंधन ने बगैर कारण बताए जून 2015 में 46 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया. प्रबंधन के मनमानी पूर्ण व अन्यायपूर्ण फैसले के खिलाफ कर्मचारियों ने केन्द्र सरकार के इण्डस्लट्रियल ट्रिब्यूनल में गुहार लगाई. ट्रिब्यूनल के पीठासीन अधिकारी ने अंतरिम राहत के रूप में सभी कर्मचारियों की नौकरी बहाली के दिनांक 20.12.2016 को आदेश दिए. आदेश के बाबजूद सीबीएसई प्रबंधन हठधर्मिता दिखाते हुए कोर्ट के फैसले को अनदेखा कर कर्मचारियों की नौकरी बहाल नहीं कर रहा हैं.

जिसके चलते कर्मचारियों में भारी रोष है. प्रबंधन के मनमानीपूर्ण रवैये के खिलाफ राउज एवेन्यू स्थित सीबीएसई कार्यालय के समक्ष कर्मचारियों ने भूख-हड़ताल शुरू की है. चार कर्मचारी अत्तर सिंह, हितेन्दर, राहुल, शहजाद ने दिनांक 24.04.2017 पहले दिन सुबह 10 बजे से भूख हड़ताल पर बैठे हैं. कर्मचारियों ने प्रण किया है कि जब तक सीबीएसई इनकी नौकरी बहाल नहीं कर देती है तब तक भूख हड़ताल व धरना जारी रहेगा.

सर्वश्रेष्ठ हिंदी कहानियां, लेख और प्रेरणादायक विचार के लिए विजिट करें - HindiChowk.Com

यह भी पढ़े-

Share this

हमारे अभियान को जारी रखने में मदद करने के लिए डोनेट बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment

error: Content is protected !!