हरियाणा सिरसा टीचरों ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर सत्याग्रह शुरू किया

सिरसा : हरियाणा सिरसा टीचरों ने जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर सत्याग्रह शुरू किया. यह आंदोलन हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ संबंद्ध सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा एवं स्कूल टीचर्ज फैडरेशन आफ इंडिया द्वारा सरकार व शिक्षा विभाग हरियाणा की शिक्षा व अध्यापक विरोधी नीतियों के खिलाफ और सार्वजनिक शिक्षा के क्षेत्र में निजी घुसपैठ को रोकने के लिए 24-24 घंटे के क्रमिक अनशन की शुरूआत की गई.

हरियाणा सिरसा टीचरों ने सत्याग्रह शुरू किया

सर्व कर्मचारी संघ के जिला प्रधान मदन लाल खोथ ने इस अवसर पर मौजूद अध्यापकों को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार अलग अलग बहाने बनाकर सार्वजनिक शिक्षा के वर्तमान ढांचे को तहस नहस करना चाहती है. एक तरफ शिक्षा का बजट कम किया रहा है. अभी-अभी लगभग दसियों एनजीओ ने शिक्षा विभाग में घुसपैठ की है व उनको धीरे धीरे शिक्षा का बजट हस्तांतरित किया जा रहा है.

हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ सरकार के इन मंसूबों को कभी कामयाब नहीं होने देगा. अध्यापक संघ का  शिक्षा व शिक्षक विरोधी नीतियों के खिलाफ सत्याग्रह आंदोलन 14 जुलाई तक चलेगा. जिले में कल सबसे पहले बड़ा गुढ़ा खंड के अध्यापक साथी अनशन पर बैठे थे. मंगलवार 11 जुलाई को डबवाली खंड के पांच अध्यापक श्री बंत राज, श्री गुरमीत सिंह, श्री नानक चन्द, प्रेम नाथ, कुलदीप सिंह  क्रमिक अनशन पर बैठे.

जिला के वरिष्ठ उप-प्रधान सुनील यादव ने कहा कि आंदोलन के माध्यम से अध्यापक संघ मांग करता है कि सार्वजनिक शिक्षा में हो रही निजी घुसपैठ को तुरंत रोका जाए, जे बी टी अध्यापकों के तबादलों का द्वितीय ड्राइव शुरू किया जाये, एनिवेयर गए टीचर्ज का जल्द समाधान किया जाए, तबादला प्रक्रिया जल्द शुरू की जाए, भाषा अध्यापकों की पदोन्नति सूचियां शीघ्र जारी की जाये, नवचयनित जेबीटी अध्यापकों को स्टेशन अलॉट करके विद्यालयों में भेजा जाए ताकि बच्चों को अध्यापक उपलब्ध हो सके, अंतर्जिला तबादले किए जाए, सभी कैटेगरी की पदोन्नति अविलंब जारी करने के साथ शिक्षा विभाग को डाक विभाग बनाने की बजाय शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर जोर दिया जाए.
अनुबंधित अध्यापकों की सेवाएं नियमित हो व अध्यापकों के रिक्त पद भरे जाए.  लिपिक सहायक स्टाफ की भर्ती हो, सभी विद्यालयों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएं, प्रदेश में कर्मचारियों के भत्ते जनवरी 2016 से लागू किए जाएं. सेवा नियमों में संशोधन किया जाये व हिंदी व पंजाबी ओ.टी. को भी बी. एड. के समकक्ष माना जाये. कम्प्यूटर अध्यापकों लैब सहायक के पद सृजित करके नियमित भर्ती द्वारा सभी पदों को भरा जाए.
बच्चों वर्दी व सभी प्रकार की छात्रवृतियां शीघ्र जारी की जाए. जिले के सभी अध्यापकों से अपील कि स्कूल से छुट्टी के बाद अनशनकारी साथियों के पक्ष में और सरकार व शिक्षा विभाग की गलत नीतियों के विरोध में हर रोज जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर पहूंचकर अपना सहयोग दें. इस अवसर पर जिले के सैंकड़ो अध्यापक सत्याग्रह स्थल पर उपस्थित रहे.
यह भी पढ़ें-
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment