UPNL Outsource Employee के सम्बंध में पूर्व आदेश को निरस्त करने की मांग

UPNL Outsource Employee: आज को उत्तराखंड कार्मिक, शिक्षक, आउटसोर्स सयुंक्त मोर्चा के मुख्य संयोजक ठाकुर प्रहलाद सिंह के नेतृत्व में सचिवालय परिसर में अपर मुख्य सचिव कार्मिक राधा रतूडी अध्यक्ष कार्मिक समस्या निवारण समिति एवम सचिव बित अमित नेगी से मिला. इस मोर्चा के मुख्य संयोजक ठाकुर प्रहलाद सिंह ने उनसे आग्रह किया कि 24 मई 2018 को माननीय मुख्यमंत्री जी के साथ मोर्चा पदाधिकारीयो के साथ सहमति बनी थी कि जो कर्मचारियों से छीना गया है उसे वापस किया जाएगा.

UPNL Outsource Employee की मांग

इसके साथ ही 27 अप्रैल 2018 के द्वारा संविदा एवम आउटसोर्स के संबंध में प्रतिकूल आदेश का परीक्षण कराया जाएगा. तदनुसार 30 मई 2018 को सरकार ने राधा रतूडी जी की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर दिया गया. मोर्चा का शिष्टमंडल दो बार राधा रतूडी व अमित नेगी से मिल चुका है. इसके साथ ही उनसे ये आग्रह किया जा रहा है कि मोर्चा के मांगपत्र के अनुसार आउटसोर्स कर्मचारियों के सम्बंध में 27 अप्रैल 2018 के आदेश को निरस्त किया जाय.
इसी क्रम में आज पुनः मोर्चा शिष्टमंडल ने अपर मुख्य सचिव कार्मिक व सचिव वित्त से भेंट की व उनको अवगत कराया कि 27 अप्रैल 2018 के आउटसोर्स के सम्बंध में जारी आदेश को लेकर फील्ड में कार्मिकों के बिरुद्ध उत्पीड़न की कार्यवाही शुरू होने से भय व आक्रोश का माहौल है. इसके बाद अपर मुख्य सचिव ने शिष्टमंडल को आस्वस्त किया कि मुख्य सचिव महोदय से परामर्श के उपरांत शीघ्र ही आउटसोर्स कर्मियों के बारे 2-3 दिन में निर्णय ले लिया जाएगा.
प्रतिनिधिमण्डल में मुख्य संयोजक ठाकुर प्रह्लादसिंह, सचिव रवि पचौरी, शक्ति प्रसाद भट्ट, चौधरी ओमबीरसिंह, अरुण पाण्डे, भावेश जगूड़ी, दीपक चौहान, कुलदीप शर्मा, यस के वानिया मौजूद थे.
यह भी पढ़ें-
Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment