मई में 11 लाख EPF Member की संख्या में कमी, आखिर क्या वजह है?

EPF Member के बारे में एक चौकाने वाली जानकारी सामने आ रही है. अगर आप किसी Company या Factory आदि में काम करते हैं और आपके Salary से PF की राशी Deduct की जा रही है तो यह जानकारी आपके लिए Important हैं. मिडिया के जानकारी के अनुसार मई 2018 में Employees Provident Fund यानी ईपीएफ (EPF) में Contribute करने वाले EPF Member की संख्या में 11 लाख तक की कमी आई है. जबकि इसके उलट इस अवधि में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी  EPFO के पास PF जमा कराने वाली कंपनियों की संख्या में इजाफा हुआ है. अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्यों और कैसे हुआ.

मई में 11 लाख EPF Member की संख्या में कमी

इसका मतलब साफ़ है कि कंपनियों ने अपने EPFO के तहत Registered Employees (EPF Member) का PF का पैसा जमा नहीं करवाया. यानी कि यानी डिफॉल्ट करने वाली कंपनियों की संख्या बढ़ गई है. इस वर्ष के अप्रैल 2018 में EPFO के कंट्रीब्यूटरी मेंबर्स, यानी ऐसे जिनका पीएफ EPFO के पास जमा हो रहा था. की संख्या 4,61,06,568 थी. जबकि मई में यह संख्या घट कर 4, 50,58,056 हो गई है. यानी एक माह लगभग 11 लाख EPF Members कम हो गए हैं.

EPF Member की संख्या में कमी का असली वजह 

भाष्कर खबर के अनुसार EPFO के बारे में फैसले लेने वाली शीर्ष बॉडी सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टी सीबीटी के मेंबर और ट्रेड यूनियन हिंद मजदूर संभा के प्रेसीडेंट एडी नागपाल ने कहा है कि एक में 11 लाख EPF Members की संख्या में कमी होने का मतलब है कि बड़े पैमाने पर कंपनियां पीएफ का पैसा नहीं जमा करा रही हैं. यानी डिफॉल्ट कर रही हैं. कंपनियों का यह कृत कर्मचारियों के लिहाज से यह चिंताजनक बात है.

EPFO के लेटेस्ट Data के अनुसार मौजूदा समय में 62,8 06 कंपनियां डिफाल्ट कर रही हैं. यानी इन Company ने Employees के PF का पैसा EPFO के पास नहीं जमा कराया है. ये ऐसी कंपनियां हैं जिन्होंने जनवरी 2017 से मार्च 2018 के बीच किसी भी वेज मंथ का PF जमा कराया है लेकिन अप्रैल 2018 वेज मंथ का पीएफ मई, 2018 में जमा  नहीं कराया है. अगर आपका भी PF का अकाउंट है तो जल्द से जल्द अपना Account चेक कर देख लें कि इसमें कहीं आपका कंपनी भी तो शामिल नहीं है.
यह भी पढ़ें-
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment