ये कम पढ़ें लिखे होकर भी जानते हैं यूनियन का अधिकार व ताकत और आप?

एक दुबला पतला सा दिखने वाला साधारण सा दिखने वाला एक मजदूर हैं. जो कि दिल्ली मेट्रो में कॉन्ट्रैक्ट पर काम करता हैं और उसका काम सरिया काटने का है. वह पढ़ाई के नाम पर बस केवल अपना हस्ताक्षर कर लेता हैं और यूनियन आफिस आने से उसको इतना ज्ञान (यूनियन का अधिकार) हो गया है कि अपने ठेकेदार से आई-कार्ड और अपनी नौकरी साबित करने के लिए जरूरी कागजात लेकर संभाल कर रखता हैं.

यूनियन का अधिकार

उसका कहना है कि ठेकेदार ज्यादातर मजदूर को काम करवाने के बाद पैसे नही देता और बाद में पहचाने तक से इंकार कर देता है, तब यह कागजात बड़े काम आता हैं. यह बात वो अपने दूसरे साथी मजदूरों को भी सिखाता हैं और अपने साथ उन्हें भी यूनियन जोवाईन करवा रखा हैं. उसका मानना है कि अपने यूनियन के कारण ही दिल्ली जैसे शहर में भी बिना किसी भय के हम बड़े-बड़े ठेकेदार से लड़ पाते हैं.

एक और चौकाने वाली बात यह है कि जहां सरकार स्नातक वर्करों के लिए मिनिमम वेजेज 400 रुपया तय कर रखा हैं वही उसको सरिया काट कर रोज के 700 रुपया मिलता है और ओवर टाइम कर महीने के लगभग 25,000 तक कमा लेता है. पूछने पर की अपने ठेकेदार/कम्पनी से लड़ने में डर नही लगता तो  उसका कहना है कि वह अपनी मेहनत के पैसे लेता हैं तो डरने की क्या बात हैं. जब भी उसको टाइम पर पैसा नही मिलता तो केस लगता और कम्पनी से पैसे लेता है.

आपके पंख उस पिजड़े में बन्द तोते की तरह अकड़ जायेगा

आज के युवाओं को उस कम-पढ़े मजदूर से सीख लेना चाहिए, जो कि नौकरी जाने के डर से वर्षों से चुप-चाप शोसन का शिकार होते रहते हैं. वो उस पक्षी की तरह ये सोचकर चुप रहते हैं कि वो जिस पेड़ पर बैठे हैं और अगर पेड़ की डाल (नौकरी) टूट गयी तो हमारा क्या होगा? उनके अपने पंख (योग्यता) भी हैं, ये क्यों भूल जाते हैं. अपने पंखों पर भरोशा नही करोगे तो आपके पंख उस पिजड़े में बन्द तोते की तरह अकड़ जायेगा और फिर खुला होने पर भी उड़ नही पाओगे.
यह भी पढ़ें-
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

2 thoughts on “ये कम पढ़ें लिखे होकर भी जानते हैं यूनियन का अधिकार व ताकत और आप?”

  1. एक साधारण सा worker 21 हजार कमा रहा है जो ज्यादा पढ़ा लिखा भी नहीं है और अपने हक़ के पैसे न मिलने पर ठेकेदार को खूब सबक भी सिखाता है यूनियन के माध्यम से और एक irctc का पढ़ा लिखा worker है जो अपने हक़ के पैसे माँगने में भी डरता है। 2 साल का increment कंपनी हड़प गयी पर आवाज उठाने के बदले 12 हजार की नौकरी बचानी की कोशिश करता है।

    ऐसे पढे लिखे लोगो से तो ये कम पढा लिखा worker अच्छा है जो किसी को अपना हक़ छीनने नहीं देता।

    गर्व है ऐसे मजदुर भाई पर

    Reply
  2. जो लोग आने अधिकार मांगने से डरते हैं निःसन्देह उनको अपनी योग्यता पर भरोषा नही हैं.

    Reply

Leave a Comment