• Breaking News

    Termination Rules | Job Termination के समय Employee को कितना Payment मिलेगा?

    Termination Rules | Job Termination के समय Employee को कितना Payment मिलेगा?

    अगर आप कहीं Job करते हैं और अगर आपके सामने आपके Job Termination की बात हो गई तो हाथ-पांव फूलना स्वभाविक बात है. आज हम इसी के बारे में Details में Information शेयर कर रहें हैं. इस Post के माध्यम से हम आपके अंदर से Termination का डर निकालने की कोशिश के साथ Termination Rules की Information देने की पूरी कोशिश करेंगे. Termination Rules को Simple Word में समझने के लिए इस Post को End तक पढ़ें और आपके मन में कोई Question हो तो Post के अंत में Comment Box में जरूर पूछें.

    Termination Rules in hindi जानें Job Termination Kya hai?

    किसी भी Employee के लिए Termination शब्द बहुत ही कष्टप्रद होता है. जिसको सुनंने की कल्पना मात्र से ही Un-employment का डर सताने लगता हैं. एक Employee की आजीविका उनके Employment द्वारा प्राप्त Monthly Salary पर निर्भर करता हैं और यदि वह आजीविका हटा जाती है तो सोचिये की क्या होगा. यह हो सकता है कि कुछ समय के लिए उनके सुखद जीवन में अंधेरा छा जाए.

    हालांकि, किसी भी Company द्वारा किसी भी Employee के Job Termination के विभिन्न कारणों से हो सकती हैं. मगर एक Company द्वारा इस तरह का Decision लेने के लिए हमेशा Valid Reason होना चाहिए. सौभाग्य से अभी तक हमारे देश India में 'Hire & Fire' नीति नहीं है, इसलिए India में बिना किसी सूचना के Job Termination नहीं किया जा सकता है. इसके लिए भी कुछ Termination Rules निर्धारित है.


    Employer को Employee की Service Terminate करने से पहले Act के तहत कुछ Procedure का पालन करना होगा, और कुछ मामलों में भी मुआवजे का भुगतान करना होता है. उन्हें Job Termination के लिए Indian Labour Laws का पालन करने की आवश्यकता होती है.

    ‘Workman’ और ‘Non-workman’ क्या हैं? 

    भारत में Employees को आम तौर पर 'Workman' या Non-Workman के रूप में वर्गीकृत किया जाता है. 'Workman' शब्द को Industrial Dispute Act 1947 ("ID Act") के तहत परिभाषित किया गया है, और इसके साथ ही किसी भी Industry में नियोजित सभी व्यक्तियों को Workman हैं मगर वो इस Category में नहीं आयेंगे जिनकी भूमिका Managerial, Administrative या Supervisory की हैं. 

    आजकल हर Post में Executive लगा देने का चलन हैं, जैसे Executive, Senior Executive, Field Executive, Customer Care Executive etc. अक्सर इन सभी का काम Workman का होता है मगर नाम से ऐसा प्रतीति होता है कि ये Managerial or Administrative Post पर हैं. इसके बारे में हमारा यही कहना है कि केवल किसी Post के नाम से धोखा न खाएं. अगर आपको Supervisor भी बन रखा और आपके कोई Workman/Employee नहीं करता या किसी भी वर्कर को So-Cause या ChargeSheet देने का Power नहीं तो आप Workman Category में ही आयेंगे. इसका संबधं अधिक Salary से भी नहीं होता है. जैसे Plan का पायलट भी Workman Category में आता हैं.
     

    Termination Rules  in Hindi 

    ID Act के तहत परिभाषा के अलावा, एक Workman और Non-Workman के बीच अंतर करने के लिए कोई निर्धारित सूत्र नहीं है, और किसी Employee द्वारा किए जा रहे Work की Nature के आधार पर स्थिति को विभिन्न निर्णयों के माध्यम से परीक्षण और स्थापित किया गया है.

    पर हम Workman का चर्चा करने का एकमात्र कारण यह है कि एक Employee जिसे Workman माना जाता है. उसका Job Termination आदि ID Act के प्रावधानों के अनुसार होना होगा.

    Job Termination के प्रकार-

    उम्मीद करता हूं कि आप ऊपर Workman Category के बारे में दिए Information को पूर्ण रूप से समझ चुके हैं. इससे आप खुद का आंकलन कर सकते हैं कि आप Workman Category में आते है या Non-Workman में. इसके तहत किसी भी Workman का Job Termination दुर्व्यवहार (Misconduct), निर्वहन (Discharge) या छंटनी (Retrenchment) के कारण किया जा सकता है.

    दुर्व्यवहार (Misconduct)-

    किसी भी कर्मचारी का Job Termination दुर्व्यवहार (Misconduct) के लिए हो सकती है, जिसके लिए Employer को Disciplinary Proceeding करने की आवश्यकता होती है. Disciplinary Proceeding करने के लिए India में एक Employee की Job Termination करने के लिए Law के तहत निर्धारित की गई है. 

    इसके तहत गलती करने वाले Employee को Show-Cause Notice देना. इसके साथ ही अगर Employee उसमें Fail होता है तो Charge-Sheet के माध्यम से Disciplinary Panel का गठन कर Employee को अपनी Job की रक्षा करने का एक उचित मौका देने शामिल हैं. Natural Justice के Principle को ध्यान में रखते हुए Proceeding कार्यवाही उचित तरीके से आयोजित की जानी चाहिए. दूसरे शब्दों में कह सकते हैं, इसकी Proceeding बिलकुल Court की तरह होती है. जिसमें कर्मचारी को Justice का पूरा मौका मिलना चाहिए. 

    कुछ मामलों में, बिना किसी पूर्व Notice के जब Job Dismissal होता है तो Disciplinary Proceeding में compensation के नतीजे पर पहुंचता हैं.

    Misconduct (दुर्व्यवहार) को  Industrial Disputes Act, 1947  या Industrial Employment (Standing Orders) Act 1946 में परिभाषित नहीं किया गया है. Oxford Advanced Learner’s Dictionary में Misconduct का अर्थ unacceptable Behavior, खासकर एक Professional People द्वारा, लेकिन शब्दकोश का अर्थ इसका विभिन्न रूपों का संकेत नहीं है कि विधियों और न्यायिक घोषणाओं ने इसका निर्माण किया है.

    Schedule 1, Clause 14(3) of Industrial Employment (Standing Orders) Central rules 1946, के तहत तैयार Industrial Employment (Standing Orders) Act 1946 Misconduct के तहत कुछ Acts and Omissions प्रदान करता हैं. इन Acts और Omissions में विलक्षण अपर्याप्तता (wilful insubordination), अवज्ञा (disobedience), चोरी (theft), धोखाधड़ी (fraud), बेईमानी (dishonesty) और आदत लापरवाही (habitual negligence) शामिल है.
     

    विभिन्न माध्यमों से ली गई Information के अनुसार Termination के कारण में Non-Performance शामिल नहीं है बल्कि इसमें केवल व्यवहार शामिल है जो दुर्व्यवहार के रूप में है.

    Job Termination की उपरोक्त प्रक्रिया सभी Employees को लागू होगी चाहे वह Workman या Non-Workman Category  में हों.

    जो Employee Workman नहीं हैं उनके Job का Termination उनके Job Contract में तय Notice Period द्वारा होती हैं.

    मुक्ति (Discharge)

    जो Employee Workman नहीं हैं और वो अपने राज्य के Shops and establishment act (“S&E’”) के अंतर्गत आते हैं. ऐसे Employee जिस State में वो काम करते हैं उसके Shops and establishment act (“S&E’”) के अनुसार उनके Job Termination उनके Job Contract में उल्लेख किये Notice Period द्वारा होती हैं.

    आमतौर पर, State S&E के अनुसार Employee को Termination की Information देने के बाद कम से कम एक Month Salary दी जाती है, या Termination के बदले Payment करते हैं, और कुछ Matters में, किसी Cause से Termination की जरुरत हो और कुछ अन्य Matters में, Employer को Job Termination करने के लिए मुआवजे (Compensation) का Payment करने की आवश्यकता होती है. Employment Contract के तहत Termination की Notice Act तहत निर्धारित प्रावधान के तुलना में कम नहीं होनी चाहिए.

    छटनी (Retrenchment)

    Industrial Dispute एक्ट में Workman के छंटनी (Retrenchment) के लिए कुछ Steps निर्धारित किया गया है. कुछ अपवादों के साथ Disciplinary Ground के अलावा किसी भी कारण से किसी Workman को Job से Employer द्वारा Termination के लिए परिभाषित किया गया है.

    एक Employer जो एक Workman को Retrench कारण चाहता है, जिसे लगातार एक वर्ष से अधिक समय तक employed किया गया है, उसे एक Month का Notice (छंटनी के कारण के साथ) देना होगा या Workman को इस तरह के Notice के बदले Payment करना होगा. 


    Retrenchment Compensation (छंटनी मुआवजे) के लिए नियम

    इसके अतिरिक्त, Employer उचित Reason को छोड़कर छंटनी के लिए Employer का Selection करने में "Last in- First Out" Rule लागू करने के लिए भी बाध्य हैं. एक Retrenched Workman  ID Act  के Rules के अनुसार छंटनी मुआवजे (Retrenchment Compensation) का हकदार है, जिसकी Regular Service के हर साल 15 दिनों की Wages की दर से गणना की जाती है. मतलब अगर आपकी नौकरी से छटनी के समय सैलरी 20 हजार है और तीन साल लगातार काम किया है तो आपका Retrenchment Compensation 10*30=30 हजार होगा.

    अभी तक के कानून के अनुसार 100 से अधिक workers को Job  देने वाली कुछ प्रतिष्ठानों (कारखानों, खानों, बागानों) के Workman को तब तक छटनी नहीं किया जा सकता जब तक   कि छंटनी के कारण बताते हुए 3 Month की लिखित Notice, या Notice के बदले Payment नहीं किया जाता है. इसके अलावा,  Retrenchment से पहले संबंधित  Governmental Authority  से पूर्व Approval लिया जाना चाहिए.

    Termination Rules | Job Termination के समय Employee को कितना Payment मिलेगा?




    विच्छेद वेतन : Job Termination के समय Employee को कितना Payment मिलेगा?

    किसी भी Employees के Job Terminate करने पर, Employer को सभी Due Amount को Pay करने की आवश्यकता होती है, जो Job Termination के समय Employee को देय होते हैं. इनमें से कुछ Payment निम्नानुसार हैं: -
    • Notice Pay, जहां Termination की Notice नहीं दी गई है.
    • अगर Employee की Job जिस Month में Terminate कर दिया गया हो और उस Month में Employee ने जितने दिन काम किया हो. उतने दिनों की Salary अगर नहीं दी गई हो तो वह उस Salary का Payment किया जायेगा.
    • Gratuity Act 1972  के Payment के मामले में कम से कम 5 साल की सेवा पूरी करने वाले Employee के लिए Gratuity का Payment. यह Act उन प्रतिष्ठानों पर लागू होता है जिनमें 10 या अधिक Employee हैं. Service हर पूर्ण Year के लिए Gratuity की गणना 15 दिनों के Salary पर की जाती है.
    • Job से Terminate किये जाने वाले Employee के Account में अगर Leave हो तो वो Leave Encashment, करा सकते हैं.
    • Statutory bonus, 1st of April, 2014 से 21000 रूपये तक Salary वाले Employee Statutory Bonus के लिए Eligible है. अगर कोई Employee जिन्होंने किसी Establishment में एक Financial Year में कम से काम 30 दिन काम किया है. वो  Payment of Bonus Act, 1965;के तहत Statutory bonus के हकदार हैं. 
    • Retrenchment compensation, अगर Employee एक Workman है, और उसकी Service को Retrenched किया गया हो.
    • कोई भी अन्य Dues जो Employer और Employee के बीच Contractual रूप से सहमत हो, या Employer की Company Policy के तहत देय है.
    • मौजूदा Employee के Provident Fund dues आदि राशि वापस लेने के लिए, उपयुक्त प्राधिकारी को आवेदन करने में Help करना.
    इसके आलावा विभिन्न तरह एक Employment में अलग Payment भी हो सकते हैं. उम्मीद करूंगा कि यह Article "Termination Rules | Job Termination के समय Employee को कितना Payment मिलेगा?" आपको पसंद आया होगा. मगर केवल आप अकेले के पढ़ लेने से ही बल्कि इस Post को जरुरतमंद Employee तक पहुंचाए और नीचे Comment Box में अपनी प्रतिक्रिया जरूर लिखें.

    यह भी पढ़ें-

    51 comments:

    1. 12 साल से ऊपर जॉब करते हुवे एक ही कंपनी में है। तो क्या रूल्स है। उसे निकलने के।

      ReplyDelete
      Replies
      1. upar article me छटनी (Retrenchment) ke rule ko read karen. eske sath hi uske bad kya rule follow karne hote hain yah bhi. agar rule follow nhi kiya gya to termination illegal hota hai. Jisko aap labour commissioner ke through labour court me chalange kar sakte hain.

        Delete
    2. मेरे साथ बहुत बार termination हुआ है। तब कोई भी कंम्पनी ऐसे रूल follow नही करती थी ना लेटर ना कुछ सीधा नीकालती थी तब कोई कानून नही मानती थी। congress सरकार थी।

      ReplyDelete
      Replies
      1. Illegal termination ko aap court me chalange kar sakte hain.

        Delete
    3. मैं एक साल कंस्ट्रक्शन लाइन में कार्य कर रहा हूं नौकरी छोड़ने या काम खत्म होने पर मिलने वाले लाभ की जानकारी देने का कष्ट करें। मैं वहां पर स्किल्ड लेबर के रूप में कार्य करता हूं तथा मेरा हाइट वर्क है।

      ReplyDelete
      Replies
      1. JI Welcome. Worker se related benefits ke liye hamare es page par jayen - https://www.workervoice.in/p/labour-help.html

        Delete
    4. Sir Muje ek jankari chahiye jb maina join kiya tb microfinance company thi but ab small bank bn chuka h tb k hisab sa 1month k notice period thaa but ab 3 month k kh rhe aur realiving nhi da the iss m kya kr skte

      ReplyDelete
      Replies
      1. aapke appoinmnet letter me kitne din ka notice period hai? Agar job ke dauran notice period change karne ka policy change kiya to kya wah aap par lagu hota hai. aise generally 30-90 days ka notice period hota hai. yah aapke company policy par depend karta hai.

        Delete
    5. नमस्ते सर मेरा नाम शिवराज है भीलवाड़ा राजस्थान से हु। में 16/11/2015 को मेरी जॉइनिंग हुई थी । मेरी परफॉरमेंस भी अछि थी। पर मेरे टीम लीडर ने मुझपर company छोड़ने के लिए बाध्य किया पर मैन जॉब नही छोड़ी और रोज ऑनलाइन present लगता रहा जो हमें एप्लीकेशन के द्वारा लोकेशन के साथ लगते है पर मेरी present को मेरा टीम लीडर ok नही करता था और वो pending रह जाती ऐसा उसने मेरे साथ लगातार 1 से 1.5 महीने तक किया। और उसके बाद मुझे भगोड़े (absconding) बताकर hr से बात करके ऑटो resigne ले लिया।
      मैन reliance company jio(SMSL) main kaam kiya wo bhi 2 saal se jyaada.
      मेरी 42 PL का बॅलन्स था और मैन काफी जगह optainal हॉलिडे और casual leave भी apply की थी पर मेरे TL ने उसे aprove नही किया तो क्या मेरा फुल एंड फाइनल नही मिलेगा क्या।
      और मैन इसके खिलाफ क्या action ले सकता हु।
      मेरे पास रिकॉर्डिंग और प्रेजेंट पेंडिंग के screen shot भी है।
      9166026899
      Shivraj sen

      ReplyDelete
      Replies
      1. जी बिलकुल एक्शन ले सकते हैं. आप अपने एरिया में लेबर कमिश्नर के नाम से अपने कम्पनी का पूरा पता लिखकर शिकायत दर्ज करवा सकते हैं.

        Delete
    6. mera naam avinash srivastava mai ek company me nov 2016 se kaam ka raha tha. meri post Customer Support Engineer tha. Mai company me kai baar resign kar diya tha but mera resign accept nhi kiya jata tha aur dhmaki di jati thi ki duty join nhi karoge to case kar denge. aise me dar ki wajah se mai kaam karta raha company apne emplyee ke account me money transfer karti aur aur use regional head ko dene ko kahti, maine bar bar mana karne pe nhi mante at last mai paresan hokar resign kar diya. lekin comoany use accept nhi kiaya aur mere ghar pe legal notic bhej diya aur mere upar iljam lagaya ki company ne mere upar iljam lagaya ki company ako training ke liye bahar bheja aur usme company ka 2500000/- kharch hua, aap 15 din me director se mile aur 250000/- Jama karo aise me mai kya karu maine dusri naukari bhi join kar li.. plz mera reply jarur de ho sake to meri help kare mai apka abhari rahunga. Thanks

      ReplyDelete
      Replies
      1. Aap aaram se ghar par rahiye...agar aapka unke yhan koi due nhi hai to o aapko dra rhen hai...aap mujhse baat kar sakte hain though this way - https://www.youtube.com/watch?v=Bq5aeHS1cq8

        Delete
    7. no of paid leave provided by private company

      ReplyDelete
      Replies
      1. Leave har state ka alag alag hota hai. Aap hamare es article ko read karen- https://www.workervoice.in/2018/08/leave-policy-in-india.html

        Delete
    8. Sir mai Mahindra finance me job krta hu mujhe 3 months pahle shwo cose notice diya tha,uske bad meeting huyi aur meeting ka results mujhe nahi batya aur us ke baad next month meeting me bulaya,case ki details (Maine ek new car loan kiya tha jisme customer and guarantor h existing Jo ki 9 month baad ghar chod kr chale Gaye.aur 3month ke baad es case ki jimedari collection team ko transfer ho gayi thi.) but mujhe kha ja rha h ki apne jaan bujh kr fraud kiya h.Aur termination ke liye bol rhe h.mujhe kya krna chahiye.

      ReplyDelete
      Replies
      1. Fir bhi aise bina so-cause aur chargesheet ke aapko job se nhi nikal sakte hain, aap hamare es post ko padhiye aur follow kijiye -

        Labour Court Me Shikayat Kaise Karen | कंपनी अगर आपको नौकरी से निकाले तो
        https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    9. Sir Mujhe ek information chahiye. Maine ek company Mai join kiya or company ne Mujhe 6 days Mai hi bol diya ki hume is post ki need nahi hai or 15 days ka time de diya. To kya Mai kuch kar sakti hoon Iske regarding. Please Mujhe bata Ye.

      ReplyDelete
      Replies
      1. वो ऐसा नहीं कर सकते और कम से कम ३० दिन का नोटिस होना चाहिए. आप इसके लिए लेबर कमिश्नर के ऑफिस में शिकायत लगा सकते हैं. Read - https://www.workervoice.in/2018/09/termination-rules-Employee-Severance-Pay.html

        Delete
    10. Sir,

      Mera naam anand babu h,me ak microfinance company me 2.5 year se kaam kar raha tha, tabhi hamare branch manager ka 60 lakh rs. Ka ghotala pakda gaya, jisme kuch hame receiving na lene ke karan paisa bharna pada uske baad company hamare upar aur jabardasti paisa daal rahi h aur na bharne par terminate karne ki dhamki de rahe h sabhi employees ko bharne ke baad terminate karne ki dhamki di ja rahi h,bina receiving amount dopsite karne wale 4 employee h aur sabhi poori amount deposite kar chuke h, sir hame kya karna chahiye

      ReplyDelete
      Replies
      1. Aap galti se bhi apne upar n len. Bad me ye fansa denge aur job se bhi nikal denge. Tab aap khud ko bekasur sabhit bhi nhi kar payoge. Aapko agar ye dabab dalen to police me compliant karen.

        Delete
    11. Sir,
      I was working in a company since 9 & 1/2 year. Now a days company is not doing well.
      Now they terminate me saying that your last 11 month performance is not well, in the month of nov 18 with 1 month notice. What should I do ?
      They were not pay my salary from the month of October/November/December.
      And not pay my expenses (ta/da)from September month.
      Even they are not settle my account.
      After termination they told me to submit company property for settlement.i submit everything still they are not paying me anything.
      Even now they are not picking up my phone call now. What should I do ?

      ReplyDelete
      Replies
      1. You should raise your complaint before concern labour commissioner office and challenge your illegal termination. Please read our article and do accordingly - https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    12. सर् मेरा नाम अमित शर्मा है। मैं टाटा कैपिटल फाइनेंसियल सर्विसेज राजेन्द्र प्लेस दिल्ली मे कॉन्ट्रैक्ट बेस मे 19 सिंतबर 2016 को जॉब जॉइन किया था। हमारा कॉन्ट्रैक्ट दो साल के लिए था ,जोकि कंपनी ने आगे रिन्यूअल नही किया है।जब मैंने यह जॉब जॉइन किया था तब मेरी सैलरी 15728 थी और काट के 14225 एकाउंट में ट्रांसफर होती है।जबकि हमने अपनी कंपनी की सीनियर एच्•आर•से बात की सैलरी बढ़ाने के लिए ओर करेक्ट को रिन्यूअल करने की बात की ओर उनको मेल भी किया तो काफी समय बीत जाने के बाद नाही उनका कोई रेस्पांस नही आया,उनसे उनके नंबर पर भी बात की,तो कहे के टाल दिया कि वो अपने सीनियर से बात करेगी। अब तो यह आलम की उन्होंने मोबाइल फ़ोन उठाना बंद कर दिया है। अभी कंपनी ने दिसंबर में सब को बोनस बाटा मगर मुझे बोनस नही दिया।पूछने पर कोई रिस्पांस नही है।
      सर् आपसे यह पूछना है कि कॉन्ट्रैक्ट खत्म होने के बाबजूद भी कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू क्यों नही कर रहे है। नही सैलॅरी बढ़ा रहे है। नही बोनस दे रहे है। सर् आप मुझे बातये कि मुझे क्या करना चाहिए।

      थैंक्स एंड रेगार्ड्स,
      अमित शर्मा
      9015522292

      ReplyDelete
      Replies
      1. आपको फिक्स्ड टर्म कॉन्ट्रैक्ट पर रखा गया था. मगर फिर भी किसी को बिना नोटिस के नौकरी से निकलना गैर क़ानूनी हैं. आप लेबर कमिश्नर ऑफिस में इसको चुनौती दे सकते हैं. हां बोनस आपको पिछले फिनेन्सिल ईयर में काम करने के बदले मिलता हैं. इसके लिए भी आप लेबर कमिश्नर ऑफिस में ही शिकायत कर सकते हैं. आप बोनस एक्ट के बारे में जानकारी के लिए हमारे इस आर्टिकल को पढ़िए - https://www.workervoice.in/2018/10/Bonus-Act-kya-hai-company-not-paid-where-complaint.html

        Delete
      2. इसके आलावा Labour Court Me Shikayat Kaise Karen | कंपनी अगर आपको नौकरी से निकाले तो
        https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    13. sri man jee mera file labour commisonar ke yaha aj 04 mah se pending hai labour comisonar ko refrence banake labour court (trubunal) bejna chaye to abhi tak nahi beja labor comisonar bolete hai refrence banake pipari sonebhadra gaya hai uske bad trubunal kanpur office jaega tab apke pas information jaega
      sir mai janana chata hu ki kitna wakt lagega refrence labour court pahuchane me
      aur labour court kitne dino me case ka decide karega
      mai sadak par a gaya hu mere bacho ka education fees nahi jama ho pa rahi hai mane 15 varse lagatar kam kia hai muje to salary bhi bahot kam milti thei ki apoko parmanent kar dea jaega
      mai high court allahabad gaya to waha se mera fiel labour court ke lie bol dea gaya
      muje to computer poerator ka minimama weg bhi nahi dea gaya 3000 rs deke kam lia jata tha aur 15 salo ke bad 5000 rs dea jata tha mane eski sikayat cm ke portal par dea waha se ek latter ke ate hi muje turant termiant kar dea gaya

      ReplyDelete
      Replies
      1. वो आपको सही बता रहे है. लेबर कमिश्नर आपके मैटर को लेबर मिनिस्ट्री भेजता हैं. जहां से करवाई करते हुए लेबर मिनिस्ट्री लेबर कोर्ट रेफर करती हैं. आप अपने FOC लेटर लेकर वहां पता कीजिये.

        Delete
    14. sir mera nam manoj srivastava mai 10 march 2003 ka 31 july 2018 tak lagatar g.d. binani p.g. college mirzapur me 5000 rs par as a computer operator ke post par kam karta raha mane bahot bar principal se parmanent ke lie bola karta tha to bolte the apka ho jaega parmanent mehnat se lage raheye (05 post alredy vacant) par mera koi sunata nahi tha bus kam karte raho fir mane cm ke portal par ek sikayat darj karwa dea ki mere sath yaha sosad ho raha hai muje minimam veg bhi nahi dea ja raha hai aur mai apne bacho ke sath bhuko mar raha hu waha se cm ka latter ate hi muje ek tin din ka notice deke merei sew sampt kar dea gaya mai apne job termination latter ki mag karta raha par unhone nahi dea mane ek mah ka time maga ki ek mah ka time dea jae to unhone uska koi reply nahi dea
      mai 04 november 2018 ko high court allahabad me writ kar dea writ no 20352 of 2018 wha se mere lie koi ordera nahi hua bus etna lika gaya ki if your termination is illegaly withiout following the law then he may approch the appropriate forum/ court for redressal of his grievance
      this court can not issue any direction to committee of management for payment of the salary of the petitioner this case is not maintaqable.
      uske bad mane 04 october ko cp dakhil kia gaya labour commisonar mirzapur ke yaha waha bhi principal ne bahot sara jut bola ki ye do ya tin gante hi kam karte the enhone kabhi 240 din kam nahi kia jabki mane har kalender varse me 240 din se jada kam kia hai wha bhi unhone samjauta karne se inkar kar dea ab mera case refrence banake dipty labour commisnor ke pas gaya hai (DLC pipery sonebhadra ) uske bad waha se bola jatha hai ki abhi kanpur trubunal jaega file tab apoko notice jaega ki apka mukdama kaha par chalega.
      muje sie naya milega ya nahi ap apna openion bataye ki mera case me kay hoga

      ReplyDelete
      Replies
      1. लेबर कमिश्नर सही बता रहा है. आप का मैटर अगर रेफर हो गया तो इन्तजार करें. वो आपको लेटर भेजेंगे. इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए हमारे इस आर्टिकल को पढ़िए- https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
      2. Respected sir ap mera matter padke batane ka kast kare ki mera termination illegal hai ya nahi,
        aur labour court ky faisala de sakta hai\

        ky mai labour court se parmanent ho sakta hu
        ya hame kis taraha ka jaudgement milega
        aur labour court me mukadme kitne din chalega aur kul kitna paisa kharch hoga

        Delete
      3. यह मैं अभी कैसे बता सकता हूँ. केस कोई सही तरीके से कोर्ट एक पास पेश कीजिये. इसके बाद आपने मेहनत और धीरज के साथ लड़े तो जीत आपकी होगी. मगर इसकी गारंटी तो शायद आपका वकील भी नहीं दे पायेगा. केवल प्रयास करना हमारे हाथ में होता हैं. हाँ आपको बिना नोटिस और चार्जशीट के निकाल तो यह बिलकुल गैरकानूनी हैं. आगे बढिये..अभी आप सही रास्ते पर हैं.

        Delete
    15. Sir main sham maharashtra se me airoli me job karta hun muje sallety lage aati he aur to sallery slip bi jaldise Uplode nhi karte or compni me na appoinment letter he ya na to joining lattre he or na ID he tab muje kya karna chaiye

      ReplyDelete
      Replies
      1. Aap unse demand kar sakte hain. magar apni job bachakar...aap written me request karen aur nhi dete to labour commissioner office me shikayaat laga sakte hain.

        Delete
    16. Dear sir
      Give me a holiday rules of sunday
      In delhi at outsource warker

      ReplyDelete
      Replies
      1. देश में किसी भी Government या Non Government Organization, Company, Factory, Hotel आदि में काम करने वाले प्रत्येक Employee छुट्टी के हकदार हैं. कोई भी कंपनी आपको कितना Leave देगी, यह इस पर Depend करता हैं कि आप किस State में काम करते हैं. प्रत्येक State में अलग-अलग Leave का Rights होता है. more read - https://www.workervoice.in/2018/08/leave-policy-in-india.html

        Delete
    17. Hi Team,
      I have reported disrespect behavior of Sr.TL to HR partner head. I was been asked by Hr head to resign and will provide 2 months waiver without providing any justice. I went under dipresation. kindly advice.

      ReplyDelete
      Replies
      1. You can file a petition before labour court through concern labour commissioner office in your area. please read our given article and follow-

        Labour Court Me Shikayat Kaise Karen | कंपनी अगर आपको नौकरी से निकाले तो
        https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    18. Sir namaskar Mera naam Vijay Kumar Jha hai.mai 3 Saal se Deoghar Jharkhand headquarter me Gopal zarda company me on roll pe sale's officer pad par kaam karta aa Raha hoon appointment letter me 15din pehle Naukri se nikalne ki such a dena Likha hua hai lekinmujhe achanak Naukri se nikal Diya aur Karan yah tha ki 13 mar 2019 me chuti par tha aur 14 mar 2019 ko mere boss ne morning 8:30 me phone Kiya tha lekin mai phone Nahi utha Saks magar 1/2 hr ke bad phone Kiya magar unhone MERI ek na suni aur email Kar Diya stop working Ka jab likhit suchana denachaha to Mera ek mahine Ka salary expenses aur Mera Jo target ppra hua Isla incentive San hold Kar Diya iske liye Maine labour court me kase Kiya hai.ton kya Jo Mera pf Ka paisa hai wo samai par Nahi milega? Please mujhe batai.meri aarthik stithi bhut kharab hai aur 3 mahine se berojgar hoon aur kya Mai Kisi BHI company me on roll pe Kar saktha hoon jab tak case ki sunwahi Nahi Hoti hai.

      ReplyDelete
      Replies
      1. Kam se kam 1 month ka notice dena hota hai aur sath hi job se nikalane ka resign bhi batana hota hai . aap es post ko padhiye aur jaisa bataya waisa hi kijiye -

        Labour Court Me Shikayat Kaise Karen | कंपनी अगर आपको नौकरी से निकाले तो

        https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    19. Mai 10 month se kam kar rah hu multinational company me ..our ab mere se ek galti hone ke karan merese termination letter our resign letter maga gaya to kya ? Muse meri salary milegi ..pls reply me

      ReplyDelete
    20. Mera name nitin tomar hai Mai ek finance company Shriram city Union finance company me manager ki post pr kam karta tha, Maine company me 7 year 8 months work kiya, but company needs mjhe January 2019 me forjary ka iljam laga KR terminate kr diya jisme company ke pas koi bhi proof nhi hai,

      ReplyDelete
      Replies
      1. Please read and follow -

        Labour Court Me Shikayat Kaise Karen | कंपनी अगर आपको नौकरी से निकाले तो
        https://www.workervoice.in/2018/09/labour-court-me-shikayat-kaise-karen-job-termination.html

        Delete
    21. Tarmination ke bad dusari job milegi our koi asar dikhega plz sir ?

      ReplyDelete
    22. I enjoy looking through a post that can make men and women think.
      Also, thank you for allowing for me to comment!

      ReplyDelete
    23. Hello sir,

      Me maruti suzuki arena o nexa ke Dealer, ki Pvt. Ltd. Company me pichle 10 mhine se digital marketing head ki position par kam kar rha hu, mera ka or mere nature dono hi company keiye acha rha he,meri mahnat se company ki website ko top one renk par laya hu par Company ne bina kisi karan ke mujhe 1 mhine phle nikal diya he bina kisi karan se Company se jvab mangne par company ka ye khna he ki aapka kam thik nhi he or mujhe sidhe nikal diya na koi notice, mene unse ye bat likhit me mangi to unhone mujhe manna kar diya or salary bhi mujhe mere kam jitne din kiya utne hi din ki di, pichle 1 mhine se me Lag bhag har din puch Rha hu ki karan kya he kuch bhi nhi bta rhe he.

      ReplyDelete
      Replies
      1. Agar aap manager ki post par then to civil suit kisi advocate ke help se karen. aur job ke sath full back wages ki demand karen.

        Delete
    24. Sir app bahot hi Accha Kam worker ki liye Kar rahe he. Mujhe company walo ne terminat Kar Rakha he Mera case labour court me chal raha he. Company walo ne aapki tarah mujhper BHI janlwa attack karwana tha. Per me BHi pakka hu apne aap me. Company walo ka bayan police me tha ki kaam Kam hona. Labour Commissioner ke Yaha per tha ki misconduct, misbehav ab final judg ke Yaha per kahte he mail ke jariye ki worker be manager ko Jaan se Marne ki dhamki. Ye sare batani ki copy RTI ke jariye Mene nikalker Mene de di judge ko. Ab fase Gaye company wale. Or ab finally documents summoning ke liye de di applicantion. Ab aaj company ka advocate kahta he mujhse ki fasla Kar lo.per me BHI abb fesla nahi karunga kyoki mujhe pata he ki MERI koi Galti nahi thi. Aaj na to company wale is case ko harenge. Or is case ka judgement refrannce banega. God bless you sir aap public ke liye bahot hi Sacha social work Kar rahe he. God bless you sir. Sir Mera mobile no 8800755162 he from faridabad. Kabhi aapse baat hui to mine badi Khushi hogi kyki Kahi na Kahi mere is case me me aapse help launnga. Kyoki company wale mere 3 advocates ko khrid chili he.

      ReplyDelete

    अपना कमेंट लिखें

    loading...