पटना AIIMS के 400 नर्सिंग स्टाफ हड़ताल पर, जॉब और जान की सुरक्षा की मांग

अभी देश में कोरोना के मरीज लगातार बढ़ाते जा रहे हैं. ऐसे स्थिति में बिहार सरकार के लिए एक और मुसीबत खड़ी हो गई है. पटना AIIMS के 400 नर्सिंग स्टाफ हड़ताल पर चले गए है. उनकी मांग जॉब सिक्योरिटी की है. वो सभी कॉन्ट्रैक्ट पर काम कर रहे हैं. अपनी माँगों के लिए वो काम बंद कर AIIMS गेट के बाहर आकर खड़े हो गए हैं.

पटना AIIMS के 400 नर्सिंग स्टाफ हड़ताल पर

पटना में बनाए कोविड डेडिकेटेड अस्पताल पटना AIIMS के नर्सिंग स्टाफ गुरूवार को अपनी 6 सूत्री मांग को लेकर हड़ताल पर चले गए. जिससे मरीजों की परेशानी बढ़ गई है. 300 से 400 के आसपास नर्सिंग स्टाफ अपनी मांगों को लेकर AIIMS परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मास्क लगाकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

इस प्रदर्शन में शामिल सभी स्टाफ नर्स स्टाफ पिछले कई वर्षों से AIIMS में कार्यरत हैं. उन्होंने बताया कि जब से AIIMS की शुरुआत जब हुई तब से लेकर आज तक, हम सभी कॉन्ट्रैक्ट नर्सिंग ऑफिसर AIIMS के सहयोग में भागीदार हैं. ऐसे में हमारी अपील है कि हमें AIIMS परिवार की सदस्य की तरह समझा जाए और हम सभी की मांग के बारे में सोचा जाए.”

AIIMS प्रशासन ने संविदा नर्सिंग स्टाफ को लेटर जारी करते हुए लिखा है कि नौकरी की सुरक्षा, वेतन में वृद्धि की अपनी मांगों को लेकर जो हड़ताल पर हैं. उनसे आग्रह करते हैं कि वो फिर से अपनी ड्यूटी शुरू करें. अगर आप हड़ताल करते हुए इस महामारी से निपटने में प्रयासों को खतरे में डालते हैं उनके खिलाफ मजबूरी में कार्रवाई की जायेगी.

पटना AIIMS के नर्सिंग स्टाफ की 6 सूत्री मांग

1. केंद्र सरकार के नियम-नीतियों को देखते हुए हमें भी समान काम समान वेतन दिया जाए

2. AIIMS के सदस्य और हमारी ड्यूटीज को देखते हुए हमारी भी छुट्टियां बढ़ाई जाएं.

3. अभी कोरोना काल चल रहा है और इस काल में कॉन्ट्रैक्ट नर्सिंग ऑफिसर का बहुत बड़ा योगदान रहा है, ऐसे में हमारा कोई भी कांटेक्ट साथी अगर बीमार होता है और भविष्य में भी उसको स्वास्थ्य के संबंधित कोई भी तकलीफ होती है, तो उनको भी परमानेंट स्टाफ की तरह मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराई जाए और हमारे परिवार का भी हेल्थ कार्ड बनाया जाए.

4. आने वाले कोई भी परमानेंट भर्ती में हम कांटेक्ट स्टाफ जो कि एम्स पटना के सदस्य हैं और यहां पर कॉन्ट्रैक्ट में भी स्किल टेस्ट और एग्जाम के माध्यम से सलेक्ट हुए हैं, उनको परमानेंट बहाली में भी वरीयता और प्राथमिकता दी जाए.

5. स्टाफ की मांग है कि उनका कोई भी साथी अगर AIIMS छोड़कर जाता है तो उसको AIIMS के लेटर पैड पर कार्य करने का अनुभव (Experience letter) AIIMS प्रबंधन की ओर से दिया जाए.

6. स्टाफ का कहना है कि हम सभी अभ्यर्थी पिछले कई सालों से सम्मान कार्य कर रहे हैं तो हमें भी AIIMS थर्ड पार्टी से हटाकर AIIMS के अधीन लिया जाए और हमें जॉब सिक्योरिटी दी जाए.

वो घर में Home Quarantine कैसे हो सकते?

AIISM नर्सिंग महिला स्टाफ ने मिडिया से बात करते हुए बताया कि उन सभी को कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज में लगाया गया है. इस दौरान उनको सही तरीके से कोई भी सुरक्षा उपकरण नही दिए गए. इसके वावजूद वो लोग पिछले 3-4 महीने से ईमानदारी से जान पर खेलकर काम कर रहे. वो मरीजों के बीच से निकल कर शाम को घर जाते है. उनको डर हैं कि उनके कारण उनके परिवार का कोई सदस्य इसके चपेट में आ सकता है.

अभी उनका कोई सहकर्मी पॉजिटिव हो जाता हैं तब उसको Home Quarantine होने को बोला जाता हैं. उनको अस्पताल में भी भर्ती नहीं किया जाता. उनमे से कुछ लोग एक रूम में 4 सदस्य एक साथ रहते हैं. ऐसे में वो घर में Home Quarantine कैसे हो सकते हैं? बड़ा ही वाजिब सा सवाल हैं.

यह भी पढ़ें-

Share this

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment