Government Employees की सैलरी 10% कट जाएगी, कानून में संसोधन

अक्सर देखा गया है कि आजकल के बच्चे एकल परिवार को तहजीब दे रहें है. जिसके तहत नौकरी लगते ही अपने बूढ़े माता-पिता और दिव्यांग भाई-बहन कि अनदेखी करते है. अब सरकारी नौकरी करने वाले ऐसे लोगों कि खैर नहीं. क्योकि असम विधान सभा ने शुक्रवार को एक विधेयक पारित किया जिसमें प्रावधान किया गया है कि अगर राज्य Government Employees अपने अभिभावकों और दिव्यांग भाई-बहनों की देखभाल नहीं करेंगे तो उनके मासिक वेतन में 10 प्रतिशत की कटौती की जाएगी.

Government Employees की सैलरी

Government Employees की सैलरी से कटी गयी सैलरी उनके बूढ़े माता-पिता या दिव्यांग भाई-बहन को उनकी देखभाल के लिए दिया जायेगा. असम कर्मचारी अभिभावक जवाबदेही एवं निगरानी विधेयक, 2017 के प्रावधानों के तहत राज्य सरकार या असम में किसी अन्य संगठन के कर्मचारी अपने अभिभावकों या दिव्यांग भाई-बहनों की देखभाल करेंगे.
 
राज्य के मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने सदन में यह विधेयक पेश करते हुए कहा कि ऐसे भी बहुत से उदाहरण जिसमे बेटा के सही सलामत होने के बाबजूद वृद्ध अभिभावक को वृद्धाश्रम में रहना पड़ता है. उसका मुख्य कारण है कि बच्चे उनकी देखभाल नहीं कर रहे है. उन्होंने बताया कि इस कानून का मकसद किसी भी कर्मचारी के निजी जिंदगी में दखल देना नहीं है.
बल्कि वो यह सुनिश्चित करना चाहते है कि अनदेखी किये जाने के बाद अभिभावक व् दिव्यांग भाई बहन विभाग में शिकायत कर सकते है. सदन में चर्चा के बाद विधेयक को ध्वनि मत से पारित कर दिया गया. जिसके बाद में श्री शर्मा ने कहा कि इसके बाद विधायक, सांसद व् निजी कंपनियों में काम करने वालों के लिए भी ऐसी तरह का विधेयक लाया जायेगा.
बिलकुल सही पहल है. इस कानून में थोड़ा सा संसोधन होना चाहिए और पत्नी को भी हकदारों के लिस्ट में शामिल करना चाहिए. केवल असम में ही क्यों पुरे देश में लागु होना चाहिए. यह भी होना चाहिए कि जो जनसेवक (सांसद, विधायक व् अन्य) वोट लेकर जनता का काम नहीं करे, उसकी 10% नहीं बल्कि 100 प्रतिशत सैलरी काट कर जनता को मिलना चाहिए. 
सबसे पहल इस कानून को पहले सांसद व विधायक के लिए पास किया जाना चाहिए. ताकि कर्मचारियों को इसका महत्व समझने में आसानी हो सके. इसके बाद हमें नहीं लगता कि श्री शर्मा ने जो कहा उसको कर भी पायेंगे या नहीं. इस कानून का पहला शिकार हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी बन जायेंगे. आगे आप खुद ही समझदार है.
Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment