हरियाणा गेस्ट टीचर को पक्का होने तक समान वेतन देगी सरकार, ऐसे मिली जीत

जब पुरे देश में ठेका पर काम करने वाले वर्कर “समान काम का समान वेतन” की मांग कर रहे है. सुप्रीम कोर्ट के आर्डर के बाद सरकार भले ही दो साल बीत जाने के बाद भी कोई कदम नहीं उठा पाई हो. मगर त्याग और संघर्ष के बल पर हरियाणा गेस्ट टीचर ने सरकार को झुकाने पर विवश कर दिया है. यह खबर हरियाणा गेस्ट टीचर के लिए राहत भरा हो सकता है. हरियाणा के खट्टर सरकार ने गेस्ट टीचर को पक्का होने तक समान काम का समान वेतन देने का फैसला लिया है.

हरियाणा गेस्ट टीचर को पक्का

ऐसा कुछ एक दिन में नहीं हुआ बल्कि हरियाणा गेस्ट टीचर के पीछे लम्बे संघर्ष की कहानी है. जिसमे आग में घी का काम शहीद की पत्नी नैना यादव और उसके बेटे का मुंडन ने किया. इस घटना ने पुरे देश को सकते में डाल दिया. पहले तो गेस्ट टीचर्स ने मुख्यमंत्री को खून से खत लिख कर 11 फरवरी में करनाल में “सामुहिक मुंडन” में आने का निमंत्रण दिया. उनके बाद ठीक तय समय के अनुसार बाकि लोगों ने अपना फैसला बदला दिया हो, मगर नैना यादव ने अपने साथी ही अपने 8 वर्षीय पुत्र का मुंडन करवा कर पुरे सभी को रुला दिया. इसका बाद सरकार विपक्ष के निशाने पर आ गई और अब यह फैसला लेना पड़ा.
जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ शनिवार को गेस्ट टीचरों के प्रतिनिधिमंडल की हुई बैठक में ये निर्णय लिए गए. पक्का होने तक यदि किसी अतिथि अध्यापक की नौकरी चली जाती है, तो उस स्थिति में भी सरकार संबंधित शिक्षक को घर बैठे तनख्वाह देगी. सरकारी शिक्षकों की तरह अतिथि अध्यापकों को एक वर्ष में 20 अवकाश तथा एलटीसी की सुविधा का लाभ देने को राजी हो गई है. इसके बारे में बताया गया है कि इन फैसलों के संबंध में आदेश सोमवार को जारी हो सकते हैं.
सीएम के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर और मौलिक शिक्षा निदेशक राज नारायण कौशिक की मौजूदगी में हुई बैठक में अतिथि अध्यापकों को पक्का करने की प्रक्रिया पर भी चर्चा की गई. अतिथि अध्यापक संघ के प्रधान पारस शर्मा, पुष्पा, नवीन बाला, दिनेश गौतम, राधाकृष्ण, सुखविंद्र और जितेंद्र ने मुख्यमंत्री के समक्ष तमाम विकल्प पेश किए.

हरियाणा जेबीटी शिक्षकों को 21715 के बजाय 35400 रुपये मासिक मिलेगा

समान काम समान वेतन की व्यवस्था लागू होने के बाद जेबीटी शिक्षकों को 21715 के बजाय 35400 रुपये मासिक, टीजीटी को 24001 की जगह 44900 तथा लेक्चरर को 29715 रुपये के बजाए 47500 रुपये मासिक वेतन मिलेगा. इन्हें भत्ते नहीं मिलेंगे.
हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ के अध्यक्ष पारस शर्मा ने कहा कि अतिथि शिक्षक मुख्यमंत्री के साथ हुई समझौता वार्ता से संतुष्ट हैैं. सीएम ने अपने चुनाव घोषणा पत्र को पूरा करने का भरोसा दिलाया है. इसलिए आगे का आंदोलन फिलहाल स्थगित कर दिया गया है. सोमवार को शिक्षा निदेशालय के अधिकारियों को दस्तावेज सौंप दिए जाएंगे.


यह भी पढ़ें-

Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment