• Breaking News

    सूचना का अधिकार क़ानून हिन्दी में एप्लीकेशन का नमूना, RTI Application Hindi me Kaise likhe

    सूचना का अधिकार क़ानून हिन्दी में एप्लीकेशन का नमूना, RTI Application Hindi me Kaise likhe

    हमारे एक मित्र रवि कुमार को पिछले साल RTI लगाकर आईआरसीटीसी से जानकारी लेनी थी. मगर हुआ यूं की इस संबंध में Google में सर्च किया. जिसमे कोई बेवसाइट मिली और उनसे एक आरटीआई लगाने का 500 रूपया ले लिया. इसके बाद भी उनको जानकारी नहीं मिल पाई. वही एक दूसरे मित्र युद्धवीर सिंह को भी RTI Application अप्लीकेशन वकील से बनवाने के 300 रूपये दें पड़ें. आज हम आपको खुद से आरटीआई एप्लीकेशन बनाने सिखांयेंगे. जिसको आप केवल 10 रुपया और स्पीड पोस्ट के खर्च के साथ भेज सकते हैं. हर व्यंक्ति के आरटीआई की जानकारी बहुत ही मह्त्वपूर्ण है. क्या पता कल बच्चे के एड्मिशन, रिजल्ट, बैंक, पुलिस, वाद-विवाद आदि किसी भी काम में जरुरत पड़ जाए. कम से कम इस काम के लिए आपको वकील के पास न जाना पड़े और न ही किसी अन्य के माध्यम से लगाकर 300-500 रुपया खर्च करना पड़े. आरटीआई के बारे में पुरे जानकारी के लिए आपने हमारा पहला आर्टिकल पढ़ लिया होगा. अगर नहीं पढ़ा तो इस लिंक पर क्लिक करें-सूचना का अधिकार अधिनियम, 2005 क्या है और RTI Kaise Lagaye?

    आज हम यह जानते हैं कि सूचना का अधिकार क़ानून के तहत सूचना एकत्र करने के लिए प्रार्थना पत्र का नमूना कैसा होता है? 

    Sample of application to seek information under RTI Act 2005 in hindi.

    ----------------------------------------------------------------------------------------------------

    सेवा में,                                                                                                      Date ----------
    सीपीआईओ/पीआईओ ( जनसूचना अधिकारी)
    विभाग का नाम---------------------------------------------
    विभाग का पता----------------------------------------------|
    पिन कोड------------------------------------------------------

    विषय: सूचना का अधिकार क़ानून -2005 के अंतर्गत सूचना प्राप्ति के लिए आवेदन

    महोदय / महोदया,
                 सूचना का अधिकार  क़ानून -2005 के अंतर्गत नीचे लिखे प्रश्नों का लिखित उतर देने की कृपा करें. 

    प्रश्न-1.-----------------------------------------------------------------------------------------
    प्रश्न-2------------------------------------------------------------------------------------------
    प्रश्न-3------------------------------------------------------------------------------------------
    प्रश्न-4------------------------------------------------------------------------------------------
    प्रश्न-5------------------------------------------------------------------------------------------इत्यादि. 

    मेरे द्वारा मांगी गई जानकारी के लिए शुल्क के रूप में पोस्टल ऑर्डर/ बॅंक ड्राफ्ट का नंबर……….. जारी करने की तारीख………………राशि………………….संलग्न है. 
          
    OR 

    मैं ग़रीबी रेखा के अंतर्गत आता हूँ  इसलिए मुझे सूचना का अधिकार लेने के लिए कोई शुल्क नही देना है. इसके लिए अपने गरीबी रेखा का सत्यापित दस्तावेज़ साथ संलग्न कर रहा हूँ. (Note-दोनों में से जो लागू नहीं उसको न लिखें)

    भवदीय: 
    --------------
    ( हस्ताक्षर करें )
    फिर अपना पूरा नाम और पता लिखें
    ---------------------------------------------
    Pin Code----------------------------------



    ऊपर आरटीआई अप्लीकेशन का पूरा फॉर्मेट हिंदी में उपलब्ध है. अब थोड़ा इस अप्लीकेशन को समझते हैं. इस एप्लीकेशन को लगाते समय निम्न बातों का ध्यान रखना होगा. 
    • जिस विभाग में अप्लीकेशन लगाना है उस विभाग के जनसूचना अधिकारी का नाम और पता की जानकारी ले लें. इसके लिए आप उस विभाग के वेबसाइट की मदद ले सकते हैं. 
    • अपने अप्लीकेशन में ऊपर दिनांक डालना न भूलें.
    • ऊपर जहां प्रश्न संख्या लिखा है वहां कृपया अपने प्रश्न या प्रश्नों को क्रमांक दे कर जवाब मांगे. 
    • आपसे सूचना प्राप्ति के लिए दस रुपये फीस ली जाती है. आप अपने आवेदन के साथ 10 रुपये का पोस्टल ऑर्डर संलग्न कर सकते है. पोस्टल ऑर्डर का एक पन्ना अपने पास सुरक्षित रख लें और बड़ा हिस्सा इस प्रार्थना पत्र के साथ संलग्न कर लें. जानकारी के आलावा रिकॉर्ड मांगने पर इसके अतिरिक्त शुल्क दो रुपये प्रति ए-फॉर साइज कागज लिया जाएगा.
    • अगर आप गरीबी रेखा के अंतर्गत आते हैं तो एक्ट के अनुसार आपको आपको सूचना का अधिकार लेने के लिए कोई शुल्क नही देना है. इसके लिए आपको पूरा ब्यौरा दें  और सत्यापित दस्तावेज़ संलग्न करें. 
    • अपने RTI एप्लीकेशन की कॉपी को संबंधित जनसूचना अधिकारी के पास स्पीड पोस्ट से ही भेजें और उनका रसीद संभाल कर रखें.
    अपने आरटीआई एप्लीकेशन भेजने के बाद फोटो कॉपी स्पीड पोस्ट के रसीद के साथ अपने पास सुरक्षित रखें. अगर आपको एक माह के भीतर कोई जवाब नही मिलता तो आप सूचना अधिकारी की शिकायत सूचना आयुक्त से कर सकते हैं. हर राज्य में एक सूचना आयुक्त नियुक्त किये जाते हैं. ग़लत सूचना देने, देरी से देने और सूचना ना देने के दोषी सूचना अधिकारी के खिलाफ करवाई करने का प्रावधान है.

    यह भी पढ़ें-

    No comments:

    Post a Comment

    अपना कमेंट लिखें

    loading...