अब वेटिंग ई-टिकट वाले को भी मिले ट्रेन में confirm ticket के साथ बर्थ – सुप्रीम कोर्ट

Confirm Ticket: अगर आप ट्रेन में यात्रा के लिए ई-टिकट बुक करते हैं तो यह जरूर पता होगा कि वेटिंग ई-टिकट चार्ट बनने के बाद ऑटोमैटिक कैंसिल हो जाता है. मगर अभी सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला दिया है उसको जानकार आपके ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहेगा. जानकारी के मुताबिक़ माननीय कोर्ट ने रेलवे को आदेश जारी किया है कि वह एक ऐसा प्लान बनाये कि जिससे फर्जी नामों से टिकट बनाने वाले एजेंट्स पर रोक लगाईं जा सके, ताकि बाद में वह वेटलिस्ट वाले यात्रियों को अधिक पैसे लेकर Confirm Ticket आवंटित किया जा सके.

अब वेटिंग ई-टिकट वाले को भी Confirm Ticket मिल सकता है

कोर्ट के इस आर्डर के बाद अब ऐसे रेलयात्री, जिनके पास ई-टिकट हो और उनका नाम वेटलिस्ट में शामिल हो. अब उनको भी Confirm Ticket मिल सकता है. सन 2014 के दिल्ली हाईकोर्ट ने एक याचिका के फैसले में कहा था कि काउंटर टिकट की ही तरह ई-टिकट धारकों का भी वेटिंग टिकट कैंसिल नहीं होना चाहिए. उनको भी बराबर की सुविधा मिलनी चाहिए. रेलवे ने दिल्ली हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी. जिसे सुप्रीम कोर्ट ने पहली ही सुनवाई में खारिज कर दी है.

उसके साथ ही माननीय सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश भी दे दिया कि रेलवे जल्द से जल्द एक प्लान बनाये. जिससे फर्जी नामों से टिकट बनाने वाले एजेंट्स पर रोक लगाईं जा सके, ताकि बाद में वह वेटलिस्ट वाले यात्रियों को अधिक पैसे लेकर Confirm Ticket आवंटित किया जा सके.इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने रेलवे को हाई कोर्ट के उस फैसले पर जल्द अमल करने का सुझाव दिया है जिसमे ई-टिकट और काउंटर टिकट के बीच अंतर समाप्त करने को कहा गया है. इसके अनुसार हाई कोर्ट दिल्ली ने सुझाव दिया था कि चार्ट बनाते समय ई-टिकट  को कैंसिल न किया जाए. कोर्ट ने यह भी कहा कि ऐसा कोई नियम नहीं है जिसके तहत काउंटर टिकट वाले को ई-टिकट धारकों के तुलना में वरीयता दिया जाए.

 चार्ट बनते ही ई-टिकट अपने आप कैंसिल हो जाता था.

अभी तक के नियम के अनुसार चार्ट बनते ही ई-टिकट अपने आप कैंसिल हो जाता था. जिसके बाद ई-टिकट धारक उस टिकट को लेकर सफर नहीं कर सकते थे. जबकि इसके विपरीत काउंटर टिकट वाले का वैटलिस्ट टिकट चार्ट बनने के बाद भी कैंसिल नहीं होता था. वैटलिस्ट काउंटर टिकट धारक उस टिकट के साथ यात्रा नहीं नहीं कर सकते थे बल्कि ट्रेन में बर्थ खाली रहने पर टीटीई उनका टिकट कन्फर्म भी कर सकता था.
अब भले ही कोर्ट का यह फैसला कुछ समय के लिए राहत देने वाला हो, मगर रेलवे जबतक ट्रेनों कि संख्या में इजाफा नहीं करता तो आने वाले दिनों में इससे ट्रेन में भीड़ बढ़नी तय है. अभी वैटलिस्ट टिकट वालों के भीड़ के वजह से Confirm Ticket वाले यात्री को भी मुश्किल से ही बैठने को सीट मिल पाती है.
यह भी पढ़े-
Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

2 thoughts on “अब वेटिंग ई-टिकट वाले को भी मिले ट्रेन में confirm ticket के साथ बर्थ – सुप्रीम कोर्ट”

Leave a Comment

error: Content is protected !!