अहमदाबाद एक्सप्रेस बिना इंजन के दौड़ी 20 किलोमीटर तक, 2 निलंबित जांच के आदेश

भारतीय रेलवे में कुछ न कुछ अजूबा आये दिन देखने को मिलता रहता है. आज भले ही भाड़ा बढ़ाने के नाम पर रेलवे एक नंबर पर पहुंच गया हो मगर यात्री सुरक्षा के नाम पर जीरो मार्क्स ही मिलेंगे. आप ही सोचिये कि जब आप ट्रेन में बैठें हो और पता चले कि बिना इंजन के दौड़ी तो शायद आपको “द बर्निंग ट्रेन” का दृश्य याद आने लगेगा. ऐसा वाकया कल सवारियों से भरी अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस ट्रेन एक साथ हुआ.

अहमदाबाद एक्सप्रेस बिना इंजन के दौड़ी

जानकारी के अनुसार इंजन बदलते अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस को संबलपुर रेलवे डिविजन के इस स्टेशन पर रोककर दूसरी दिशा में ले जाने के लिए इंजन का छोर बदला जाता है. शनिवार रात करीब 10 बजे जब इंजन को एकतरफ से हटाकर ट्रेन के दूसरे सिरे पर जोड़ने के लिए ले जाने की प्रक्रिया चल रही थी. इस दौरान कर्मचारी डिब्बों के ब्रेक लगाना भूल गए.

जिसकी कारण ट्रेन अपने आप चल पड़ी. इस दौरान पटरी पर यदि कोई दूसरी ट्रेन आ रही होती तो बड़ी दुर्घटना हो सकती थी. 20 किलोमीटर दौड़ने के बाद किसी तरह ट्रेन को रोका गया. जिसके बाद इंजन लगाकर उसे रवाना किया गया.अब आप सोच रहे होंगे कि क्या यह कोई चमत्कार तो नहीं, तो जान लीजिए कि ऐसा इसलिए हुआ कि ट्रेल ढलान पर थी और ब्रेक नहीं लगने के वजह से सरकने लगी. जिसके बाद धीरे-धीरे रफ़्तार पकड़कर 20 किलोमीटर तक चली गई. यह तो संयोग की बात है कि किसी भी यात्री का कुछ नहीं हुआ.

अमर उजाला के खबर के अनुसार ईस्ट कोस्ट रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि इंजन शंटिंग प्रक्रिया के नियमों का पालन नहीं करने के लिए मौके पर मौजूद रेलवे स्टाफ को निलंबित कर दिया गया है और संबलपुर डिविजिन के रेलवे मैनेजर जयदीप गुप्ता ने घटना की वरिष्ठ अधिकारी से जांच कराने के आदेश दिए हैं. प्रवक्ता ने बताया कि इस घटना के बाद तीतलागढ़ से इंजन भेजकर ट्रेन को दोबारा स्टेशन पर वापस लाया गया और इसके बाद आगे रवाना किया गया.

यह भी पढ़ें-

  1. राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस पर प्रदर्शन किया तो पहले लाठी खाई फिर गिरफ्तार हुए
  2. आत्महत्या कर लूँगा, पटना को मधुबनी पेंटिंग से सजाने वाले कलाकार ने कहा
  3. रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिनों का बोनस : केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर
  4. अब NGO भी RTI Act के दायरे में : सुप्रीम कोर्ट का महत्वपूर्ण फैसला
  5. रेलवे के सफाईकर्मियों ने जंतरमंतर पर प्रदर्शन किया
Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

Leave a Comment