भारत सरकार द्वारा जारी 24 हजार न्यूनतम वेतन की हकीकत जाने

कल ही एक मित्र ने एक मैसेज का द्वारा पूछा कि क्या सचमुच सेन्ट्रल गवर्नमेंट ने सभी वर्कर की 24 हजार न्यूनतम वेतन कर दी है. जब हमने कहा कि नहीं तो उन्होंने सरकार द्वारा पब्लिश किया गया नोटिफिकेशन सेंड किया. इसके साथ ही बताया कि यह उनके व्हाट्सप्प पर आया है. 

भारत सरकार द्वारा जारी 24 हजार न्यूनतम वेतन की हकीकत जाने

जिसमे लिखा है, “नई दिल्ली: (राजेन्द्र के गुप्ता 9…..-70242 ) भारत सरकार के नए निर्णय के अनुसार कम से कम वेतन का निर्धारण करने का बड़ा निर्णय लिया है. अब किसी भी प्राइवेट, सरकारी, अर्धसरकारी कम्पनी, संस्थान, होटल या किसी अन्य जगह काम करने वाले लोगों को वेतन के रूप में कम से कम 24000/- प्रति माह देना ही होगे वर्ना अपराध मान कर श्रम क़ानून के तहत कारवाई की जाएगी. केंद्र सरकार के श्रम और रोज़गार मंत्रालय ने दिनांक 28 अगस्त 2017 को अधिसूचना जारी कर दी है”.

इसको पढ़कर और नोटिफिकेशन देखकर ही सारा माजरा समझ में आ गया. इस तरह के गलत जानकारी का मैसेज व्यापक रूप से फैलाया जा रहा है. कुछ लोग जानबूझकर और कुछ लोग अनजाने में ही इस अफवाह हो हवा दे रहे है. आइये इस सच्चाई को जाने.
MINISTRY OF LABOUR AND EMPLOYMENT
NOTIFICATION
New Delhi, the 28th August 2017
S.O. 2806(E) – In exercise of the powers conferred by sub-section (6) of section I of the Payment of Wages Act, 1936 (4 of 1936), the Central Government, on the basis of figures of the Consumer Expenditure Survey published by the National Sample Survey Organization, hereby specifies rupees twenty four thousand per month as the wages under said sub-section (6).
[F. No. S-31018/3/2007-WC]
N.K.SANTOSH, Dy, Director General

 

आइये इसको विस्तार से जानते हैं-

केंद्र सरकार को मजदूरी भुगतान अधिनियम 1936 की धारा 1 की उप-धारा (6) के तहत हर पांच वर्ष पर उपभोक्ता व्यय सर्वेक्षण (मतलब आम आदमी को कितना आय-व्यय का आंकड़ा का सर्वे) कर इस कानून के तहत मजदूरी सीमा बढ़ाने का अधिकार है. National Sample Survey Office of Ministry  के द्वारा इस कानून के तहत उपभक्ता व्यय पर सर्वेक्षण के आधार पर Statistics Programme  को इस गज़ट नोटिफिकेशन के द्वारा लागु किया गया है. इसका यह कतई यह मतलब नहीं है कि इस नोटिफिकेशन के द्वारा सैलरी बढ़ने की बात की गई है. बल्कि यह  Wage Limit में बढ़ोतरी के लिए जारी किया गया है.

एक कानून के तहत अभी से पहले मजदूरी सीमा 18000/- रूपये प्रति माह था. जिसको नोटिफिकेशन सं 2806 (ई) दिनांक 28 अगस्त, 2017 से बढ़कर 24000/- प्रति माह किया गया है.

The Payment of Wages Act, 1936 को Payment of Wages Act, 1917 नोटिफिकेशन सं 2806 (ई) दिनांक 28 अगस्त, 2017 के द्वारा निम्नानुसार संशोधित (Amend) किया गया है:

ऊपर नोटिफिकेशन में लिखे Payment of Wages Act, 1936 का sub-section (6) of section I को देखे तो – “All wages shall be paid in current coin or currency notes or by cheque or by crediting the wages in the bank account of the employee” यह लिखा हुआ है.

इसका हिंदी में मतलब”सभी मजदूरी वर्तमान सिक्का या मुद्रा नोटों में या चेक या कर्मचारी के बैंक खाते में मजदूरी जमा द्वारा भुगतान किया जाएगा”

इसका मतलब नियोक्ता के द्वारा सभी वर्कर जिनका सैलरी 24000/- मासिक तक है उनके सैलरी का भुगतान चेक या बैंक खाता में ही होगा और नियोक्ता (मालिक) ऐसे कारखाना, कम्पनी, संस्थान व्  अन्य प्रतिष्ठान में नियोजित प्रत्येक व्यक्ति को भुगतान करेगा. ओह..अब आप सोच रहे होंगे की खोदा पहाड़, निकला चूहा…और वो भी भूखा …..

भारत सरकार द्वारा जारी 24 हजार न्यूनतम वेतन की हकीकत जाने, शेयर करें

 

 

 सेन्ट्रल गवर्नमेंट का मिनिमम वेजेज क्या है?

अब आपके मन में दूसरा सवाल यह आयेगा कि आखिर सेन्ट्रल गवर्नमेंट का मिनिमम वेजेज क्या है? इसके लिए हमारे इस आर्टिकल को पढ़े- केंद्र सरकार ने न्यूनतम वेतन में किया बढ़ोतरी, यहाँ से सर्कुलर डाउनलोड करें. इसमें हमने सर्कुलर भी अटैच्ड किया है. मान लीजिये कि यदि आप दिल्ली में आईआरसीटीसी, सीबीएसई, एयरपोर्ट, पोस्टऑफिस आदि में ठेका या आउटसोर्स वर्कर के रूप में काम कर रहे हैं तो आप सेंट्रल गवर्नमेंट के अंतर्गत काम कर रहे है. स्टेट गोवेर्मेंट यानि दिल्ली सरकार और सेंट्रल गवर्नमेंट के न्यूनतम वेतन में जो ज्यादा होगा, वह आपको मिलेगा.

अगर कोई सवाल होगा तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखियेगा. जिस तरह से गलत न्यूनतम वेतन के लिए गलत जानकारी फैलाई गई है. उम्मीद है इस पोस्ट को अधिक से अधिक वर्कर/मजदूरों तक पहुंचाने में सहायता करेंगे.

Notification PDF Download Here

यह भी पढ़ें-

Share this

यदि आपके पास वर्कर से सम्बंधित हिंदी में कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे तुरंत ही email करें – [email protected]

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें .

2 thoughts on “भारत सरकार द्वारा जारी 24 हजार न्यूनतम वेतन की हकीकत जाने”

  1. Sir Public Sector Banks Main Jo Casual Worker Hain Unkliye Minimum Wages Kitne Rakhay Hain Govt. Ne Please Iska pata lagao aur hamko iski information Do Please ……

    Reply
    • अगर आप किसी नेशनल बैंक जैसे एसबीआई, केनरा इत्यादि तो आपको Central Sphere का न्यूनतम वेतन मिलेगा Read MOre Click Here

      Reply

Leave a Comment