क्या पीएफ डबल मिलता है (Kya PF double milta hai), अगर हाँ तो कैसे?

अगर आपका पीएफ का अकाउंट है। तो ऐसे में आप जरूर जानना चाहते हैं कि आपका जो पैसा पीएफ के लिए कटता है। क्या पीएफ डबल मिलता है (Kya PF double milta hai), अगर हाँ तो कैसे? आज हम इसी के बारे में विस्तार से उदाहरण सहित बतायेंगे। यही नहीं बल्कि इसके साथ यह भी बतायेंगे कि आप ईपीएफ पासबुक में अपना पीएफ का पैसे को कैसे चेक करें।

Kya PF double milta hai

अगर आप किसी ऐसे कंपनी में काम करते हैं। जहाँ 20 या उससे अधिक कर्मचारी काम करते हैं. ऐसे में उस कंपनी को पीएफ एक्ट के तहत EPFO (Employee Provident Fund Organization) में पंजीकरण अनिवार्य है। अगर आपकी सैलरी (बेसिक+डीए) 15,000 रूपये तक हो तो आपके लिए पीएफ जमा करवाना अनिवार्य है। आपकी कंपनी आपका पीएफ अकाउंट खोलने को बाध्य होती है। अगर आपकी कंपनी ऐसे नहीं करे तो आप अपने एरिया के पीएफ कमिश्नर ऑफिस में लिखित शिकायत कर सकते हैं।

PF में कितना पैसा मिलता है?

अब जैसे ही आपका पीएफ अकाउंट खुल जाता है। आपको पीएफ अकाउंट नंबर मिल जाता है। अब ऐसे में आप पूछेंगे कि हमारे सैलरी का पीएफ कितने प्रतिशत कटता है? आपके कंपनी के द्वारा आपकी सैलरी (बेसिक+डीए) का 12% पीएफ का एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन और ठीक उतना ही आपकी कंपनी 12% एम्प्लायर कंट्रीब्यूशन जमा करते हैं। जिससे आपका पीएफ का पैसा डबल यानि 12+12 = 24% जमा होता है। इससे स्पष्ट हो गया कि आपका पीएफ डबल मिलता है, मगर दूसरे तरफ आपका सवाल होगा कि इसको हम कैसे चेक करेंगे? आइये इसको उदाहरण के साथ समझते हैं।

सर्वश्रेष्ठ हिंदी कहानियों का संग्रह - हिंदी चौक डॉट कॉम

पीएफ कितने प्रतिशत कटता है 2021?

आप मान लें कि सोनू नामक कर्मचारी की सैलरी (बेसिक+डीए) मिलकर 10 हजार है। पीएफ एक्ट के अनुसार उसके सैलरी (बेसिक+डीए) का 12 % एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन यानी 1200 रुपया कटेगा। इसके साथ ही ठीक उतना ही पैसा यानी 1200 रुपया उसके एम्प्लायर (नियोक्ता/कंपनी) के द्वारा पीएफ खाते में जमा किया जायेगा। जिससे हर महीने सोनू के पीएफ खाते में कुल 24% यानी 2400 रुपया जमा होगा। मगर आपके पास पीएफ का जो मैसेज आता है या आप जब अपना ईपीएफ पासबुक चेक करेंगे तो ऐसा नहीं दिखेगा। इसका मुख्य वजह है कि इसी 24 फीसदी में कुछ हिस्सा आपके ईपीएफ पेंशन में भी जमा होता है।

PF ka paisa double milta hai?

अब जैसा कि हमने बताया कि आपके सैलरी (बेसिक+ डीए) का 12 फीसदी पीएफ कंट्रीब्यूशन कटता है। जिसमें ठीक इतना ही आपके एम्प्लायर को यानी 12 फीसदी एम्प्लायर कंट्रीब्यूशन जमा करवाना होता है। यहाँ पर जो 12 फीसदी एम्प्लायर कंट्रीब्यूशन जमा होता है उसमें का 3.67 % ही आपके ईपीएफ खाते में जमा होता है। जबकि इसमें का बचा 8.33% आपके ईपीएफ पेंशन में जमा होता है। जिसके वजह से बहुत से लोग कंफ्यूज हो जाते हैं।

दरअसल आपके पास जो पीएफ जमा का मैसेज आता है। उसमें आपके एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन + एम्प्लायर कंट्रीब्यूशन का मात्र 3.67% का कुल योग ही शो करता है। इसके आलावा आपके ईपीएस में जमा पैसा नहीं दिखाया जाता है। जिससे लोग थोड़ा कंफ्यूज हो जाते हैं कि उनको जितना मैसेज आया है। उसका उनको पीएफ डबल मिलेगा। जबकि ऐसा नहीं होता है। आपको मैसज में ईपीएस में जमा राशि के पैसे का योग नहीं होता है।

EPF PASSBOOK
EPF PASSBOOK

epf ka passbook kaise check kare?

अब इसको EPF Passbook के जरिये समझने को कोशिश करते हैं। आपके पीएफ का पैसा तीन भागों में जमा होता है। जैसा कि आप अपने पीएफ पासबुक में देख सकते हैं। जिससे आपको समझने में आसानी होगी। आपके पीएफ पासबुक में निम्न तीन कॉलम होते हैं-

  • कर्मचारी अंशदान: आपके सैलरी ( बेसिक+डीए) का 12%
  • नियोक्ता अंशदान :आपको कंपनी द्वारा 12% का पैसा 3.67% पैसा
  • पेंशन अंशदान: आपके कंपनी द्वारा जमा किये 12% अंशदान का 8.33% पैसा

अब उपरोक्त पासबुक में कर्मचारी का Sep 2019 में ईपीएफ वेतन – 18460 है। जिसका 12% एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन 2215 रुपया जमा हुआ है। जिसके अलग एम्प्लायर कंट्रीब्यूशन 12% में ईपीएफ में 966 + पेंशन कंट्रीब्यूशन 1250 कुल मिलकर 2215 रुपया जमा हुआ है। कर्मचारी की सैलरी लिमिट से ज्यादा होने के कारण के 15000 सैलरी का ही पेंशन कंट्रीब्यूशन में 8.33 % जमा हुआ है।

क्या पीएफ डबल मिलता है (Kya PF double milta hai), अगर हाँ तो कैसे?

अब जैसा कि आप जानना चाहते हैं कि “क्या पीएफ डबल मिलता है” अगर हाँ तो कैसे? आपको बता दूँ कि आपके सैलरी से एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन 2215 रुपया कटा है। जबकि आपके पीएफ खाते में एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन- 2215 + एम्प्लोयी कंट्रीब्यूशन (ईपीएफ में 966 + पेंशन कंट्रीब्यूशन) कुल- 2215 = 4430 रुपया जमा हुआ है। जो की आपके पीएफ कंट्रीब्यूशन का डबल यानी दोगुना हुआ।

अगर आप किसी एक कंपनी या अलग-अलग कंपनी को मिलकर 10 साल की सेवा पूरी कर लेते हैं। ऐसे में आपके उम्र 58 वर्ष के बाद ईपीएफ पेंशन के हकदार हो जाते हैं। आपको जो उपरोक्त में पेंशन कंट्रीब्यूशन कटा है। जिसका लाभ आपको तब मिलता है। अगर आपको हमारा यह पोस्ट यूजफुल लगे तो अपने साथियों के साथ अवश्य शेयर करें।

यह भी पढ़ें-

Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment