सुप्रीम कोर्ट ने ईपीएफ पेंशन वृद्धि मामले में EPFO के अपील पर क्या किया, जानिए

माननीय सुप्रीम कोर्ट में ईपीएफ पेंशन वृद्धि (Supreme Court decision on EPF Pension increase) मामले की सुनवाई जारी है। जिसके तहत मंगलवार 24 अगस्त 2021 को फैसला आना था। देश के लाखों पेंशनधारक विगत 2 वर्षों से इस फैसले का इंतजार कर रहे हैं। माननीय कोर्ट के 2 न्यायधीशों की पीठ ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) और यूनियन ऑफ़ इंडिया की अपील को स्वीकार कर मैटर को 3 जजों की बेंच में रेफर कर दिया है। अगर यह फैसला कर्मचारी के पक्ष में आता है तो उनके ईपीएफ पेंशन (EPF Pension) का पैसा कई गुणा बढ़ जायेगा।

Supreme Court decision on EPF Pension increase in hindi

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के तरफ वरिष्ठ अधिवक्ता सी आर्यमा सुंदरम द्वारा प्रस्तुत सबमिशन पर विचार करते हुए यह सवाल आया, जिसमें सुप्रीम कोर्ट में आरसी गुप्ता व् अन्य बनाम क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन और अन्य मामले 2016 के फैसला की शुद्धता पर संदेह किया गया था। जिससे पीठ ने कहा कि यदि उक्त निर्णय में कोई संदेह होता है तो इसका उचित तरीका यह हो सकता है कि इसको बड़ी पीठ के पास भेजा जाए। जिसके बाद जस्टिस यूयू ललित और अजय रस्तोगी की पीठ ने मामले को तीन सदस्यीय पीठ के पास रेफर करने का निर्णय लिया। जिसके बाद आपको एक बार फिर से पीएफ पेंशन वृद्धि के अंतिम आदेश के लिए इंतजार करना पड़ेगा।

EPF 95 Pension ka kya hua?

माननीय केरल हाईकोर्ट ने कर्मचारियों के पक्ष में ईपीएफ पेंशन वृद्धि पर ऐतिहासिक फैसला दिया था। जिससे की ईपीएफ पेंशन की गणना पूरी सैलरी के अनुसार देने को कहा गया था। जिसके बाद लाखों पेंशनधारी कर्मचारियों के पीएफ पेंशन में कई गुणा वृद्धि हो जाता। मगर केंद्र सरकार व् ईपीएफओ ने केरल हाईकोर्ट के इस निर्णय को माननीय सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दिया। जिसके बाद माननीय सुप्रीम कोर्ट ने 1 अप्रैल 2019 को केरल हाईकोर्ट के फैसला को बरकरार रखते हुए केंद्र सरकार व् ईपीएफओ की याचिका कोई ख़ारिज कर दिया।

सर्वश्रेष्ठ हिंदी कहानियों का संग्रह - हिंदी चौक डॉट कॉम

95 पेंशन वृद्धि ताजा खबर eps 2021

जिसके बाद सभी को उम्मीद थी कि अब ईपीएफ पेंशधारकों के पेंशन में वृद्धि हो जायेगी। मगर केंद्र सरकार व् ईपीएफओ ने एक बार फिर से उसी मैटर में पुनः विचार याचिका दायर कर दिया। जो कि तकरीबन पिछले 2 साल से पेंडिंग है। अब आपके मन में सवाल होगा कि क्या हम प्राइवेट कर्मचारी को ईपीएफ पेंशन वृद्धि का लाभ मिलेगा? हाँ, जरूर मिलेगा, यदि कल को सुप्रीम कोर्ट का फैसला कर्मचारियों के पक्ष में आता है। जिसके बाद पीएफ पेंशन का फार्मूला बदल जायेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने ईपीएफ पेंशन वृद्धि मामले में EPFO के अपील पर क्या किया, जानिए

ईपीएफ पेंशन सुप्रीम कोर्ट के निर्णय 2021 Today

हमने इसकी जानकारी अपने पूर्व की पोस्ट में दी है। अगर आपने 33 साल किसी कंपनी में काम की और आपकी अंतिम सैलरी 50,000 रूपये थी तो ऐसे में सुप्रीम कोर्ट का आदेश कर्मचारी के पक्ष में आता है तो ईपीएफ पेंशन 25,000 रुपया मिलेगा। जबकि अभी मात्र 5,180 रुपया मासिक मिलता है। आप इससे खुद ही समझ सकते हैं कि आखिर सरकार ईपीएफ पेंशन वृद्धि सहमत क्यों नहीं है।

यह भी पढ़ें-

Share this

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए (यहाँ Click) करें.

आपके पास वर्कर से सम्बंधित कोई जानकारी, लेख या प्रेरणादायक संघर्ष की कहानी है जो आप हम सभी के साथ share करना चाहते हैं तो हमें Email – [email protected] करें.

WorkerVoice.in को सुचारु रूप से चलाने के लिए नीचे Pay बटन पर क्लिक कर आर्थिक मदद करें-

Leave a Comment